Latest News
Home ताजा खबर क्या BHU में नीता अंबानी के विजिटिंग प्रोफेसर बनने की खबर ही झूठी है, रिलायंस के प्रवक्ता ने दिया बयान!

क्या BHU में नीता अंबानी के विजिटिंग प्रोफेसर बनने की खबर ही झूठी है, रिलायंस के प्रवक्ता ने दिया बयान!

by Khabartakmedia

वाराणसी स्थित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोर रहा है। वजह महज इतनी सी है कि विश्वविद्यालय में एक विजिटिंग प्रोफेसर के आने की चर्चा हो रही है। तो इसमें ऐसी कौन सी आग लगावन बात है जो हल्ला मचा हुआ है। इसमें ख़ास बात है। विशेष ये है कि वो विजिटिंग प्रोफेसर कोई और नहीं बल्कि रिलायंस इंडस्ट्रीज की कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी हैं। मुकेश अंबानी की धर्मपत्नी।

बीएचयू में गत मंगलवार को इसी बात को लेकर धरना प्रदर्शन भी हुआ। छात्र संगठनों ने विश्वविद्यालय के कुलपति आवास का घेराव किया। कुलपति आवास के सामने ही धरने पर बैठ गए। कुछ घंटों बाद कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने धरना दे रहे लोगों से मुलाकात की। उन्होंने आश्वासन दिया कि ऐसा कोई भी व्यक्ति विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर नहीं बुलाया जाएगा। नीता अंबानी के विजिटिंग प्रोफेसर के लिए विश्वविद्यालय की ओर से प्रस्ताव भेजे जाने से लेकर धरने तक की खबर को बहुत से अख़बारों और वेबसाइट्स पर जगह मिली।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जारी किया बयान:

गौरतलब है कि इस मामले पर अब तक नीता अंबानी या रिलायंस इंडस्ट्रीज की ओर से कोई औपचारिक बयान नहीं आया था। बीएचयू प्रशासन की ओर से कहा गया था कि “समाज विज्ञान संकाय ने नीता अंबानी को इसके लिए प्रस्ताव भेजा है। जिस पर नीता अंबानी ने मौखिक सहमति जता दी है।” लेकिन बुधवार को रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रवक्ता ने इस मुद्दे पर बयान दिया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा है कि “नीता अंबानी के बीएचयू में विजिटिंग प्रवक्ता होने की खबरें झूठी हैं। उन्हें बीएचयू की ओर से कोई निमंत्रण नहीं मिला है।”

दिलचस्प है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रवक्ता ने ना सिर्फ इन खबरों को झूठा बताया बल्कि ये भी कहा कि “नीता अंबानी को बीएचयू की ओर से कोई निमंत्रण नहीं मिला है।” अब देखने वाली बात होगी कि बीएचयू प्रशासन इस पर क्या प्रतिक्रिया देता है। प्रतिक्रिया देता भी है या चुप्पी साध लेता है। अगर रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रवक्ता का दावा सही है तब बीएचयू को बताना होगा कि उन्होंने किस आधार पर कहा कि “नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर के लिए प्रस्ताव भेजा गया है और उनकी मौखिक सहमति भी मिल गई है”?

Related Articles

Leave a Comment