Latest News
Home शिक्षाविश्वविद्यालय काशी विद्यापीठ: शताब्दी वर्ष महोत्सव के खेलकूद प्रतियोगिता में नहीं आए मुख्य अतिथि आकाश चोपड़ा!

काशी विद्यापीठ: शताब्दी वर्ष महोत्सव के खेलकूद प्रतियोगिता में नहीं आए मुख्य अतिथि आकाश चोपड़ा!

by Khabartakmedia

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष महोत्सव मना रहा है। इस दौरान शुक्रवार को खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय के अध्यापकों और कर्मचारियों के बीच क्रिकेट मैच खेला गया। मुकाबला कुलपति एकादश और कुलसचिव एकादश के बीच 20-20 ओवरों का हुआ। खेल का उद्घाटन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. टी. एन. सिंह और कुलसचिव डॉ. साहेब लाल मौर्य ने किया। दोनों टीमों के बीच दिलचस्प मुकाबला खेला गया। हालांकि बीच में छात्र संघ चुनाव की बैठकों के बीच हंगामा मच गया।

मैच का उद्घाटन कुलपति प्रो. टी. एन. सिंह ने पहली गेंद खेलकर की

बैठक में आक्रामक हुए छात्र नेता खेलकूद मैदान तक पहुंच गए। छात्र नेता मैदान में मौजूद कुलपति से सीधे बात करने पहुंच गए। यहां छात्र नेताओं ने माइक पटक दिया। साथ ही सामियाना में उत्पात मचाने की कोशिश की। लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस ने इन छात्र नेताओं को पकड़कर मैदान से बाहर किया और स्थिति को संभाला।

शॉट खेलते कुलसचिव डॉ. साहेब लाल मौर्य

नहीं आए मुख्य अतिथि आकाश चोपड़ा:

खेलकूद प्रतियोगिता में बतौर मुख्य अतिथि पूर्व भारतीय क्रिकेटर और लोकप्रिय उद्घोषक (Commentator) शामिल होने वाले थे। लेकिन किसी कारणवश आकाश चोपड़ा इस कार्यक्रम में नहीं आ सकेआकाश चोपड़ा के अलावा विशिष्ट अतिथि ज्योति यादव भी कार्यक्रम में नहीं आईं। छात्र पूरे मैच आकाश चोपड़ा का इंतजार करते रहे। विश्वविद्यालय की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति और कार्यक्रम के समय सारणी में आकाश चोपड़ा के आने का समय 10:30 बजे बताया गया था। 10:30 बजे से ही छात्र छात्राएं आकाश चोपड़ा को देखने और सुनने के लिए बेताब थे। लेकिन दिन निकल गया, मुकाबला खत्म हो गया और आकाश चोपड़ा का आगमन नहीं हुआ।

गौरतलब है कि शनिवार को भारत और इंग्लैंड के बीच चेन्नई में टेस्ट मुकाबला खेला जाना है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसी मैच के कारण आकाश चोपड़ा नहीं आ सके। हालांकि वे क्यों नहीं आए इसका कोई आधिकारिक कारण अब तक पता नहीं चल सका है। लेकिन सवाल उठता है कि आखिर क्या वजह रही कि पहले से तय कार्यक्रम के बावजूद आकाश चोपड़ा और ज्योति यादव नहीं आईं। अब देखना होगा कि क्या काशी विद्यापीठ के संयोजकों की ओर से इस पर कोई प्रतिक्रिया आती है या नहीं।

Related Articles

Leave a Comment