Latest News
Home ताजा खबर Cyclone Yaas: पीएम की समीक्षा बैठक में देरी से पहुंची ममता बनर्जी, आपदा में राजनीति?

Cyclone Yaas: पीएम की समीक्षा बैठक में देरी से पहुंची ममता बनर्जी, आपदा में राजनीति?

by Khabartakmedia
NARENDRA MODI and MAMATA BANERJEE

Cyclone Yaas, West Bengal. देश के अलग-अलग राज्य इस वक्त एक चक्रवाती तूफान का सामना कर रहे हैं। ओड़िशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में Cyclone Yaas ने भारी आफत मचा रखी है। लाखों लोगों के घर पानी में दह गए हैं, तूफान में उड़ गए हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन राज्यों में हालातों का जायजा ले रहे हैं। शुक्रवार को पीएम ने ओड़िशा के मुख्यमंत्री के साथ बैठक की। पीएम ने बंगाल में भी एक समीक्षा बैठक की। राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बैठक को बीच में ही छोड़ दिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल के पश्चिम मिदनापुर जिले के कलाईकुंडा में एक समीक्षा बैठक की। पीएम ने यह बैठक Yaas Cyclone से हुए नुक़सान का आकलन करने के लिए की। प्रधानमंत्री के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी पूरी तरह से शामिल नहीं हुईं। मुख्यमंत्री बनर्जी इस बैठक में लगभग आधे घंटे की दरी से पहुंची। इसके बाद बैठक खत्म होने से बहुत पहले ही उठकर चली गईं।

ममता बनर्जी ने सौंपी रिपोर्ट:

ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री मोदी के बीच 15 मिनट तक बैठक हुई। इसके बाद ममता बनर्जी इस बैठक से चली गईं। इस बीच उन्होंने प्रधानमंत्री को एक रिपोर्ट सौंपी। पश्चिम बंगाल में Cyclone Yaas के प्रभाव पर यह रिपोर्ट थी। जिसमें राज्य में हो रहे नुकसान की प्राथमिक जानकारी प्रधानमंत्री को सौंपी गई। यह रिपोर्ट प्रधानमंत्री को थमाने के बाद सीएम ममता बनर्जी बैठक से चली गईं। इस बैठक में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकर भी शामिल थे।

बैठक से क्यों गईं ममता बनर्जी:

प्रधानमंत्री मोदी की समीक्षा बैठक बीच में ही छोड़कर ममता बनर्जी एक दौरे पर निकल गईं। ममता बनर्जी यहां से सीधे दीघा गईं। Yaas Cyclone से पश्चिम बंगाल में दीघा जिला सबसे बुरी तरह प्रभावित है। ममता बनर्जी ने दीघा का हवाई सर्वेक्षण किया। साथ ही जमीन पर भी उन्होंने स्थिति का जायजा लिया। यहीं पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने पीएम की समीक्षा बैठक में हुई गतिविधियों की जानकारी भी दी।

ममता बनर्जी ने कहा कि “मैंने प्रधानमंत्री से कहा कि आप इतनी दूर हमसे मिलने आए हैं, इसलिए मैं आपसे मिलने आई। मेरे मुख्य सचिव और मैं ये रिपोर्ट आपको सौंप रहे हैं। और मेरे कार्यक्रम के मुताबिक मुझे अब दीघा जाना है। इसलिए मैं आपसे छुट्टी (Leave) ले रही हूं।”

शुरू हुई राजनीति:

जाहिर है इस घटना पर राजनीति होनी ही थी। एक के बाद एक बयानबाजी हो रही है। ममता बनर्जी के इस व्यवहार के लिए उनकी आलोचना हो रही है। शुरुआत पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकर ने की। उन्होंने ट्वीट कर इसे संवैधानिकता और कानून के शासन के खिलाफ बताया। राज्यपाल ने लिखा है:

भारत सरकार के गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस मामले पर ट्वीट किया है। अमित शाह ने कहा है कि “दीदी ने अहंकार को जनकल्याण से ऊपर रखा है।” अमित शाह ने लिखा है:

इसके बाद केंद्र सरकार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस पर टिप्पणी की। राजनाथ सिंह ने इसे स्तब्धकारी घटना बताया। उन्होंने प्रधानमंत्री के साथ हुए इस व्यवहार को पीड़ादायक भी बताया। राजनाथ सिंह ने एक ट्वीट किया है।

Related Articles

Leave a Comment