Latest News
Home न्यायालय कांवड़ यात्रा पर पुनर्विचार करे योगी सरकार, नहीं तो मिलेगा “सुप्रीम आदेश”

कांवड़ यात्रा पर पुनर्विचार करे योगी सरकार, नहीं तो मिलेगा “सुप्रीम आदेश”

by
Kanwar Yatra

Kanwar Yatra 2021. कांवड़ यात्रा पर शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय ने एक बार फिर सुनवाई की। उत्तर प्रदेश सरकार ने आज सर्वोच्च न्यायालय में एक हलफनामा दाखिल किया था। जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को 19 जुलाई की तारीख दी है। सरकार को अब 19 जुलाई को अपना नया जवाब पेश करना होगा। अदालत ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार कांवड़ यात्रा पर विचार करे नहीं तो सुप्रीम कोर्ट खुद आदेश देगा।

सुप्रीम कोर्ट में कंवर यात्रा को लेकर न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन की बेंच सुनवाई कर रही है। 14 जुलाई को हुई आखिरी सुनवाई में अदालत ने उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ सरकार को आज की तारीख दी थी। न्यायालय ने कहा था कि सरकार कोरोना महामारी के बीच कांवड़ यात्रा की अनुमति देने पर जवाब दे।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने आज न्यायालय में अपनी बात रखी। सरकार ने 25 जुलाई को सांकेतिक कांवड़ यात्रा की बात कही। लेकिन इस पर न्यायालय संतुष्ट नहीं हुआ। बेंच ने कहा कि 16 जुलाई तक उत्तर प्रदेश सरकार सांकेतिक कांवड़ यात्रा पर पुनर्विचार करे। या फिर सुप्रीम कोर्ट खुद ही आदेश देगा।

तीसरे लहर की आहट और कांवड़ यात्रा:

गौरतलब है कि इस साल 25 जुलाई से कांवड़ यात्रा शुरू होने वाला है। बता दें कि उत्तराखंड सरकार ने इस साल कांवड़ यात्रा रद्द कर दी है। लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार ने इसे अनुमति दे दी है। जबकि दोनों ही प्रदेशों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ही सरकार है।

कोरोना वायरस महामारी के कारण इस साल कांवड़ यात्रा को रोकने की बात चल रही है। देश भर के चिकित्सकों और विशेषज्ञों ने कोरोना संक्रमण के तीसरे लहर को लेकर आशंका जताई है। खुद केंद्र सरकार भी तीसरे लहर से निपटने की तैयारी कर रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी सूबे में तीसरे लहर की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं।

तीसरे लहर के बीच कांवड़ यात्रा का आयोजन खतरे को आमंत्रण देने जैसा होगा। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कांवड़ यात्रा की अनुमति देने पर स्वतः संज्ञान लिया है। अब इस मसले पर अगली सुनवाई 19 जुलाई को होगी। 19 जुलाई को इसे लेकर अंतिम निर्णय आने की भी संभावना है।

Related Articles

Leave a Comment