Latest News
Home न्यायालय चुनाव आयोग है कोरोना की दूसरी लहर का जिम्मेदार, होना चाहिए हत्या का मुकदमा: मद्रास हाई कोर्ट

चुनाव आयोग है कोरोना की दूसरी लहर का जिम्मेदार, होना चाहिए हत्या का मुकदमा: मद्रास हाई कोर्ट

by Khabartakmedia

Madras High Court and Election Commission of India. मद्रास उच्च न्यायालय ने सोमवार को एक सुनवाई के दौरान निर्वाचन आयोग को जमकर लताड़ लगाई है। मद्रास उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग को कोरोना की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार ठहराया है। मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी ने चुनाव आयोग के वकील से कहा कि “कोविड-19 की दूसरी लहर के लिए आपकी संस्था सीधे तौर पर जिम्मेदार है।” पूरे सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी ने चुनाव आयोग की करतूतों को खूब उधेड़ा।

मद्रास उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग को कोविड-19 महामारी के दौरान चुनावी रैलियों की अनुमति देने के लिए खूब लताड़ लगाई। चुनावी रैलियों के दौरान मास्क, सेनेटाइजर और शारीरिक दूरी के नियमों का खुलेआम धज्जियां उड़ाई गई। जिसे लेकर मद्रास उच्च न्यायालय में नाराजगी जताई। मुख्य न्यायाधीश ने पाया कि अदालत के आदेश के बावजूद चुनावी रैलियों में कोविड प्रोटोकॉल्स का पालन नहीं करवाया गया। मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी ने चुनाव आयोग से पूछा कि “जब चुनावी रैलियां हो रही थीं तब क्या आप दूसरे ग्रह पर थे?”

मतगणना पर लग सकती है रोक:

चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी यहीं नहीं रुके। चुनाव आयोग की लापरवाहियों का कच्चा चिठ्ठा खोलते हुए उन्होंने कहा कि “चुनाव आयोग के अधिकारियों पर हत्या के मुकदमे दर्ज करनी चाहिए।” (“Your officers should be booked on murder charges probably.”

मद्रास उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग सख्त हिदायत दी है कि आयोग 2 मई को होने वाली मतगणना के लिए अपनी योजना बताए। न्यायालय ने कहा है कि “चुनाव आयोग, तमिलनाडु के मुख्य चुनाव आयुक्त, न्यायाधीश सेंथिलकुमार रामामूर्ति स्वास्थ्य सचिव के साथ मिलकर मतगणना के दिन के लिए योजना बनाएं। आयोग को अपनी पूरी रणनीति अदालत को बतानी होगी कि किस तरह 2 मई के दिन कोविड-19 प्रोटोकॉल्स का पालन होगा। मद्रास उच्च न्यायालय ने सख्त हिदायत दी है कि आयोग को अपनी रणनीति 30 अप्रैल तक बतानी होगी। नहीं तो न्यायालय मतगणना पर रोक भी लगा सकती है।

Related Articles

Leave a Comment