Latest News
Home ताजा खबर सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं पर प्रियंका गांधी ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, क्या कहा राहुल गांधी ने?

सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं पर प्रियंका गांधी ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, क्या कहा राहुल गांधी ने?

by Khabartakmedia

कोरोना वायरस संक्रमण ने पूरे देश में एक बार फिर अपना असर दिखाने लगा है। लेकिन आंकड़े बता रहे हैं कि कोरोना की ये दूसरी लहर ज्यादा ख़तरनाक है। इसके संक्रमण की गति भी पहले से अधिक दिख रही है। विशेषज्ञों का मानना है कि ये खतरा अभी बना रहेगा। फिलहाल कोरोना के मामलों में कमी नहीं होने वाली है। ये अप्रैल का महीना चल रहा है। यानी बोर्ड परीक्षाओं का महीना। सभी तरह की बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन मार्च से लेकर मई तक के बीच में ही सामान्यतः होती है।

लेकिन इस महामारी ने कहां किसी भी चीज को सामान्य हालत में छोड़ा है। इसने हर काम आगे पीछे किया है। हालांकि चुनावों को छोड़कर। चाहे वो पांच राज्यों का विधानसभा चुनाव हो या फिर उत्तर प्रदेश का पंचायत चुनाव, सब अपने निर्धारित समय पर हो रहे हैं। वो भी पूरे जोर शोर से। खैर, सीबीएसई बोर्ड ने पिछले दिनों बोर्ड परीक्षाओं की तारीख जारी कर दी। कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षा 4 मई से शुरू होंगी और क्रमशः 7 जून और 11 जून तक चलेंगी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रविवार को भारत के शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को एक चिट्ठी लिखी है। प्रियंका गांधी ने कोविड-19 का हवाला देते हुए ये मांग की है कि बोर्ड परीक्षाओं पर दोबारा विचार किया जाए। उन्होंने परीक्षा टालने अथवा किसी अन्य विकल्प पर सोचने की बात कही है। जिसमें परीक्षार्थी और उनके गार्जियन को किसी बात का भय ना हो। प्रियंका गांधी ने कहा है कि अभी छात्र छात्राएं मानसिक दबाव में हैं। उन्हें डर है कि परीक्षा के दौरान भीड़ जुटेगी जिससे वे कोविड के शिकार हो सकते हैं। प्रियंका गांधी बीते 3-4 दिनों में लगातार बोर्ड परीक्षा के मुद्दे पर मुखर दिखी हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी आज सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने सरकार को इसपर पुनर्विचार करने की बात कही है। गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में भारत में हर रोज एक लाख से अधिक कोरोना मरीज निकल रहे हैं। सरकारें लगातार नए नए निर्देश जारी कर रही हैं। कहीं भी भीड़ इकट्ठा नहीं होने देने की बात हो रही है। (जहां किसी भी प्रकार का चुनाव है वहां ये सब नियम केवल कागजी जहाज होते हैं।) ऐसे में जब परीक्षा देने के लिए लाखों की तादाद में विद्यार्थी घरों से बाहर निकलेंगे तब स्थिति बिगड़ सकती है। ट्विटर पर परीक्षार्थियों ने बोर्ड परीक्षा के विरोध में अभियान भी चलाया है।

विज्ञापन

Related Articles

Leave a Comment