Latest News
Home रोजगार Railway: लोकसभा चुनाव के वक्त सरकार ने निकाली थी भर्ती, दो साल में भी नहीं पूरी हुई परीक्षा?

Railway: लोकसभा चुनाव के वक्त सरकार ने निकाली थी भर्ती, दो साल में भी नहीं पूरी हुई परीक्षा?

by
Railway Recruitment

Railway Recruitment. 2019 में लोकसभा चुनाव था। युवा से लेकर बुजुर्ग तक चौकीदार बने हुए थे। लेकिन युवाओं को तब यह बात मालूम न थी कि इन चौकीदारों को वेतन नहीं मिलने वाला है। मतलब कि “मैं भी चौकीदार के नारे से कुछ दिन ऊर्जा का संचार तो हुआ किंतु पेट नहीं भर सका। लोकसभा चुनाव में रोजगार का मुद्दा सिर उठा ही रहा था। तभी उसके कपार पर एक रेलवे (Railway) में एक लाख पदों की भर्ती का ऐलान पटक दिया गया। अब इसी भर्ती परीक्षा के लिए युवाओं को ट्विटर (Twitter) पर हैशटैग ट्रेंड कराना पड़ रहा है।

चुनाव का मौसम था तो हर किसी को उम्मीद थी कि वोट की लालच में ही सही लेकिन भर्ती जल्दी होगी। लेकिन यहां खेला हो गया। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने मन ही मन इन बेरोजगार युवकों से कहा “तू डाल डाल मैं पात पात।”

गुरुवार को ट्विटर पर लाखों युवाओं ने एक साथ ट्वीट किया। ये सभी रेलवे की परीक्षा में फॉर्म भरने वाले युवक हैं। जो RRB NTPC (Non Technical Popular Catagory) और Group D की भर्ती प्रक्रिया पूरी करने की मांग कर रहे हैं। इसी बाबत ट्विटर पर आज सुबह से ही #Conduct_Railway_Exam ट्रेंड कर रहा है। इसके साथ ही #RRB_Exam_Calander भी ट्रेंड कर रहा है।

क्या है माजरा:

आज से दो साल पहले 2019 में रेलवे की Group D के लिए भर्ती की घोषणा हुई। कुल 1,03,769 पदों पर भर्ती का ऐलान हुआ। साथ ही RRB NTPC के लिए भी 35,208 पदों पर भर्ती की घोषणा हुई। 31 मार्च, 2019 तक इनके लिए फॉर्म भरवाया गया। Group D परीक्षा के लिए 1,15,67,248 लोगों ने फॉर्म भरा।

2019 के शुरुआत में आई यह भर्ती दो साल बीत जाने के बाद भी 2021 तक नहीं पूरी हो सकी है। यह भर्ती प्रक्रिया अब तक अधूरी ही है। RRB NTPC की परीक्षा कई चरणों में होती है। अब तक इसके लिए कुल छह चरणों की परीक्षा हुई है। RRB NTPC के बाद Group D की परीक्षाएं शुरू होंगी।

रेलवे की ओर से कहा गया है कि NTPC के सातवें चरण की परीक्षा कोरोना संक्रमण की वजह से स्थगित की गई है। स्थिति सामान्य होने पर परीक्षाओं का आयोजन कराया जाएगा।

क्या है मांग:

रेलवे की इस परीक्षा में शामिल होने वाले युवाओं की मांग बड़ी सीधी सी है। पहली मांग है कि RRB NTPC के परीक्षा की डेटशीट जारी की जाए। दूसरी मांग, Group D परीक्षा की तारीख निर्धारित की जाए। इन नौजवानों का कहना है कि रेलवे RRB परीक्षा का कैलेंडर जारी करे।

ट्विटर पर संगठित रूप से हैशटैग ट्रेंड कराकर इन बेरोजगार नौजवानों को लगता है कि सरकार उनकी बात सुन लेगी। ये लोग अपने हर ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (@Narendra Modi) और रेलवे मंत्री पीयूष गोयल (@Piyush Goyal) को टैग करते हैं। सिर्फ आज की बात की जाए तो रेलवे परीक्षा को लेकर चल रहे इस हैशटैग ट्रेंड में लाखों बार प्रधानमंत्री मोदी और रेल मंत्री पीयूष गोयल को टैग किया गया है।

सवाल है कि क्या इतनी बार टैग होने के बाद भी पीएम मोदी और पीयूष गोयल का ध्यान इस ओर नहीं गया होगा? क्या उन्हें इस मामले में ध्यान नहीं देना चाहिए? क्या ये नौजवान कोई नाजायज मांग कर रहे हैं? ये युवक अपने हैशटैग अभियान के जरिए सरकार को उनके ही घोषणाओं की याद दिला रहे हैं। जिन्हें सरकार शायद भूल चुकी है। या फिर सरकार जिस ओर ध्यान नहीं देना चाहती है।

खबर लिखे जाने तक रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कुल 18 ट्वीट किए हैं। इसमें कुछ रीट्वीट भी शामिल हैं। लेकिन एक भी ट्वीट रेलवे की परीक्षाओं के लिए परेशान नौजवानों से जुड़ा नहीं है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी खबर लिखे जाने तक कुल 18 ट्वीट किए हैं। जिनमें उनके भाषणों के वीडियो भी हैं। लेकिन एक भी ट्वीट नौजवानों की रेलवे परीक्षा से जुड़ी नहीं है।

देखना होगा कि आज के इस हैशटैग ट्रेंड का असर क्या होता है? क्या रेलवे आज अपनी कुम्भकरणी नींद से जाग पाता है या नहीं?

Related Articles

Leave a Comment