Latest News
Home शिक्षाविश्वविद्यालय स्वर्ण पदक पाकर छात्र नेता राजमंगल ने बढ़ाया काशी विद्यापीठ का मान, छात्र नेताओं के लिए पेश की नजीर

स्वर्ण पदक पाकर छात्र नेता राजमंगल ने बढ़ाया काशी विद्यापीठ का मान, छात्र नेताओं के लिए पेश की नजीर

by Khabartakmedia

2 मार्च को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय का 42 वां दीक्षांत समारोह आयोजित किया जाएगा। इस बार का दीक्षांत समारोह बेहद खास और ऐतिहासिक है। क्योंकि इसका आयोजन विश्वविद्यालय के 101 वें वर्ष में हो रहा है। पिछले महीने की 10 तारीख को ही काशी विद्यापीठ ने अपना शताब्दी वर्ष पूरा किया। मंगलवार को दीक्षांत समारोह में सर्वोच्च स्थान हासिल करने वाले छात्र/छात्रा को स्वर्ण पदक दिया जाएगा।

एक स्वर्ण पदक विश्वविद्यालय के एक छात्र नेता को मिलने वाला है। छात्र नेता जिसने 2020 के छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा था। उस छात्रनेता का नाम है राजमंगल पांडेय। राजमंगल पांडेय एम. ए. गांधी अध्ययन के छात्र हैं। जिन्होंने अपने विषय में सर्वोच्च स्थान हासिल किया है। बतौर टॉपर उन्हें ये स्वर्ण पदक उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के हाथों मिलेगा। राजमंगल पांडेय ने विश्वविद्यालय के छात्र नेताओं के लिए एक नजीर पेश किया है। अक्सर ये कहा जाता है कि छात्र नेताओं को पढ़ाई लिखाई से कोई मतलब नहीं होता है। इस मिथक को तोड़ने में राजमंगल सफल हुए हैं। चारों ओर उनके नाम की चर्चा हो रही है।

राजमंगल पांडेय ने इस उपलब्धि पर कहा कि “यह मेरे जीवन का स्वर्णिम क्षण है। मेरा सौभाग्य है कि मुझे काशी विद्यापीठ का प्रथम गोल्ड मेडलिस्ट छात्रनेता होने का गौरव मिला है। मेरे मेहनत से काशी विद्यापीठ का प्रदेश में मान बढ़ा है।” राजमंगल ने कहा कि “महात्मा गांधी का विचार ही मेरा जीवन है। आगे गांधी अध्ययन में ही शोध करुंगा। गांधी की संकल्पना को साकार करना ही मेरा ध्येय है।”

राजमंगल पांडेय वर्तमान में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कैडर हैं। उनके पिता सेना में थे। राजमंगल दुर्गाकुंड के प्रतिष्ठित धर्मसंघ से भी निकटता से जुड़े हुए हैं।

Related Articles

Leave a Comment