Latest News
Home ताजा खबर प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में मंत्री की हनक, गांव के जल स्रोत पर गंभीर संकट!

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में मंत्री की हनक, गांव के जल स्रोत पर गंभीर संकट!

by Khabartakmedia

रोहनिया थाना क्षेत्र के खुशीपुर गांव के सैकड़ों साल पुराने ग्राम सभा के तालाब में मिट्टी डालकर उसे भरा जा रहा है । गांव वालों ने बताया की यह तालाब भूमिगत जल रीचार्ज करने का एकमात्र स्रोत है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि जिले के ही विधायक व राज्यमंत्री रवीन्द्र जायसवाल के भाई वीरेंद्र जायसवाल ने मछली पालन के नाम पर तालाब का अधिग्रहण किया। अब इसे मिट्टी डालकर पाटा जा रहा है।

तालाब लगभग 3.5 बीघे में फैला हुआ है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग 2 के किनारे स्थित है। इसका उपयोग गांव के लोग मछली पालन एवं आपात स्थिति में जल के इस्तेमाल के लिए करते हैं। उन्हें आशंका है की इस तालाब को पाट कर समतल किया जा सकता है। इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे तथा गर्मियों में जल संकट का सामना भी करना पड़ सकता है।
एक ग्रामीण ने बताया की जिला प्रशासन से इसकी शिकायत की गई। मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब मामला हाई कोर्ट में है। लेकिन गांव के लोग सत्ता के दुरुपयोग से पर्यावरण को हो रहे नुकसान व गांव पर गहरा रहे संकट को लेकर डरे हुए हैं।

गौरतलब है कि गांव के तालाब-पोखर यूं ही ठेकेदारों की भेंट चढ़ते चला जा रहा है। विकास के नाम पर जल संरक्षण के इन प्राकृतिक केंद्रों को खत्म किया जा रहा है। बात की जाए सिर्फ वाराणसी की तो यहां सैकड़ों की संख्या में ऐसे तालाब हैं। लेकिन सबकी स्थिति पूरी तरह बर्बादी के कगार पर है। कोई इन समस्याओं पर ध्यान देने वाला नहीं है। गांवों के लिए ये तालाब कई कामों के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। जल संरक्षण का एक कारगर उपाय भी हैं ये तालाब। लेकिन इन सभी पहलुओं को नजरंदाज करते हुए जमीनी हकीकत कुछ और ही है।

Related Articles

Leave a Comment