Latest News
Home शिक्षाविश्वविद्यालय नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर बनाए जाने पर BHU में बवाल, अडानी और मित्तल को भी भेजा निमंत्रण

नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर बनाए जाने पर BHU में बवाल, अडानी और मित्तल को भी भेजा निमंत्रण

by Khabartakmedia

वाराणसी के काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में रिलायंस इंडस्ट्रीज की कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी का विरोध हो रहा है। मंगलवार को कई छात्र संगठनों ने मिलकर कुलपति आवास के बाहर धरना दिया। धरना दे रहे छात्रों ने मांग किया है कि नीता अंबानी को बीएचयू में बतौर विजिटिंग प्रोफेसर आने से रोका जाए। धरना दे रहे छात्रों से विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने खुद मुलाकात की। प्रो. भटनागर ने छात्रों को आश्वासन दिया है कि उनकी मांग मानी जाएगी।

गौरतलब है कि के समाज विज्ञान संकाय ने मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी के पास एक प्रस्ताव भेजा था। जिसमें उन्हें विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में आने की बात कही गई थी। खबरों की मानें तो नीता अंबानी ने इस प्रस्ताव पर मौखिक सहमति भी दे दी है। लेकिन जैसे ही ये बात सामने आई विरोध शुरू हो गया। छात्रों का कहना है विश्वविद्यालय को पूंजीपतियों का प्रवेश नहीं होना चाहिए। विश्वविद्यालय प्रशासन ऐसे लोगों को प्रचारित ना करे।

अडानी और मित्तल के भी आने की सुगबुगाहट:

प्रीति गौतम अडानी और गौतम अडानी (फ़ाइल फोटो)

विरोध इसलिए भी जमकर हो रहा है क्योंकि बीएचयू में सिर्फ नीता अंबानी के आने की बात नहीं हो रही है। बल्कि विश्वविद्यालय प्रशासन देश के दो अन्य बड़े पूंजीपतियों को बुलावा भेजने का मन बनाए हुए है।
अडानी फाउंडेशन की चेयरमैन प्रीति गौतम अडानी और उषा मित्तल के भी यहां आने की बात चल रही है। विश्वविद्यालय की ओर से इन बड़ी पूंजीपति घराने के लोगों को विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर बुलाने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है।

लेकिन बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में ही इन लोगों के आने को लेकर विरोध चल रहा है। आज कुलपति आवास के सामने छात्र धरने पर बैठ गए। सूचना मिलते ही आला अधिकारी छात्रों को मनाने पहुंचे। हालांकि जब बात नहीं बनी तब कुलपति को इन छात्रों से मिलना पड़ा। बताया जा रहा है कि प्रो. राकेश भटनागर ने ये आश्वासन दिया है कि ऐसे किसी भी व्यक्ति को विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर नहीं बनाया जाएगा। कुलपति ने छात्रों से बातचीत करने से पहले अपने आवास पर ही समाज विज्ञान संकाय व अन्य लोगों के साथ बैठक की।

Related Articles

Leave a Comment