Latest News
Home शिक्षाविश्वविद्यालय काशी विद्यापीठ: हिन्दी विभाग के अध्यक्ष बने प्रो. निरंजन सहाय

काशी विद्यापीठ: हिन्दी विभाग के अध्यक्ष बने प्रो. निरंजन सहाय

by
Prof. Niranjan Sahay

Mahatma Gnadhi Kashi Vidyapith. प्रो. निरंजन सहाय को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय के हिन्दी तथा आधुनिक भाषा विभाग का अध्यक्ष बनाया गया है। बुधवार को प्रो. निरंजन सहाय ने हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया। इस मौके पर हिन्दी विभाग की ओर से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

प्रो. निरंजन सहाय अगले तीन सालों तक यहां विभागाध्यक्ष बने रहेंगे। इससे पहले प्रो. अनुराग कुमार हिन्दी विभाग के अध्यक्ष थे। आज ही उन्होंने अपना कार्यभार प्रो. निरंजन सहाय को सौंपा।

10 अगस्त, 2009 को प्रो. निरंजन सहाय की नियुक्ति महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के हिन्दी विभाग में हुई थी। पिछले बारह सालों से विद्यापीठ में वो अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इस दौरान प्रो. सहाय लगातार कई बड़े पदों पर रहे हैं।

हिन्दी विभाग के प्रोफेसर होने के साथ ही प्रो. सहाय यूजीसी यूनिट के अध्यक्ष भी हैं। हाल ही में अमेरिका के मैक्सिको शहर में भारतीय दूतावास की ओर से आयोजित एक अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रो. सहाय ने अपना उद्बोधन दिया था। इस अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में उन्होंने “कबीर के सुख” विषय पर अपना वक्तव्य दिया था।

मौजूद रहे पूर्व विभागाध्यक्ष:

प्रो. निरंजन सहाय के साथ हिन्दी विभाग के पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान विधायक डॉ. अवधेश सिंह

हिन्दी विभाग की ओर से प्रो. सहाय के कार्यभार ग्रहण के मौके पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। काशी विद्यापीठ के मानविकी संकाय में यह कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस मौके पर हिन्दी विभाग के कई पुराने प्रोफेसर और पूर्व विभागाध्यक्ष मौजूद रहे।

हिन्दी विभाग के छात्र और फिर विभागाध्यक्ष बने वर्तमान विधायक डॉ. अवधेश सिंह भी इस कार्यक्रम में आए। उन्होंने प्रो. सहाय को विभागाध्यक्ष बनने पर बधाइयां दी। साथ ही कहा कि “हमें उम्मीद है कि प्रो. निरंजन सहाय इस विभाग की महान परंपरा को आगे बढ़ाएंगे और एक नई ऊंचाई पर ले जाएंगे।”

विभागाध्यक्ष बनने के बाद प्रो निरंजन सहाय ने कहा कि “मुझे आनंद की अनुभूति हो रही है कि मेरे इस मुबारक मौके पर परिवार के सभी लोग और विभाग के पुरखे मौजूद हैं। आप सभी के प्रेम का कर्ज मेरे ऊपर है। मेरी कोशिश होगी कि उस कर्ज को पूरा करने का काम करूं। साथ ही आप सब की उम्मीदों के मुताबिक विभाग को आगे बढ़ा सकूं।”

Related Articles

Leave a Comment