Latest News
Home Uncategorizedकृषि जमीनी आंदोलन पर हवाई सितारों की टकराव, अक्षय कुमार से लेकर सचिन तेंदुलकर तक!

जमीनी आंदोलन पर हवाई सितारों की टकराव, अक्षय कुमार से लेकर सचिन तेंदुलकर तक!

by Khabartakmedia

इन दिनों किसान आंदोलन को लेकर दो मोर्चे पर बहस हो रहा है। एक जमीन पर जारी है, जहां किसान सींघु बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे हुए हैं। जबकि आंदोलन का दूसरा सिरा खुला है, हवाई सितारों के नाम। लोगों के बीच मशहूर अभिनेता, अभिनेत्री, गायक और क्रिकेटर तक इसमें शामिल हो चुके हैं।

किसान आंदोलन दो महीने से ज्यादा समय से चल रहा है। लेकिन आखिर ऐसा क्या हुआ कि दो महीने बाद इस आंदोलन को लेकर ये सितारे बोल पड़े हैं। ये और बात है कि इनके बोल किसानों के समर्थन में हैं या विरोध में! खैर, बता दें कि गत मंगलवार को अमेरिकी पॉप गायिका रिहाना ने किसानों के समर्थन में ट्वीट किया था। ग्रेटा थनबर्ग जैसी दुनिया भर में लोकप्रिय पर्यावरण कार्यकर्ता ने भी किसानों के समर्थन में ट्वीट किया था।

दूसरे देशों के इन मुखर आवाजों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का किसान आंदोलन को समर्थन करना भारत सरकार के लिए अंतरराष्ट्रीय फजीहत है। किसान आंदोलन के आसपास के इलाकों में इंटरनेट बंद करना और गाजीपुर बॉर्डर की किलाबंदी पर सरकार घिरी हुई है। इसी को लेकर दुनिया भर में नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना हो रही है।

रिहाना और ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट के बाद विदेश मंत्रालय हरकत में आ गया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने विदेश मंत्रालय का एक लंबा-चौड़ा बयान ट्वीट किया। इस ट्वीट में #IndiaTogether और #IndiaAgainstPropaganda का इस्तेमाल भी किया गया। इस बयान का निचोड़ है कि “भारत की सरकार किसान आंदोलन से सलीके के साथ निपट रही है। कृषि कानून एक सुधार के तहत लाए गए हैं। कानून का विरोध महज कुछ ही किसान कर रहे हैं। इन्होंने 26 जनवरी के मौके पर हिंसा भी की। ये लोग दुनिया में भारत को बदनाम करना चाहते हैं। दुनिया के कुछ लोग प्रोपेगैंडा फैला रहे हैं।”

विदेश मंत्रालय के इन्हीं दो हैशटैग्स (#IndiaTogether और #IndiaAgainstPropaganda) के साथ भारत के सरकार समर्थक सितारे ट्वीट कर रहे हैं और बयान दे रहे हैं। अक्षय कुमार ने लिखा है कि “किसान हमारे देश का एक अत्यंत महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। किसानों के मुद्दों को हल करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। मतभेद पैदा करने वालों पर ध्यान देने के बजाए एक सौहार्दपूर्ण संकल्प का समर्थन करें।”

अजय देवगन ने ट्विटर पर लिखा है कि “भारत या किसी भारतीय नीति के खिलाफ किसी गलत प्रोपेगैंडा में ना पड़ें।”

अभिनेता सुनील शेट्टी ने लिखा है कि “हमें हमेशा किसी भी चीज के बारे में विस्तृत जानकारी रखनी चाहिए। क्योंकि आधे सच से ज्यादा ख़तरनाक कुछ भी नहीं है।”

पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी इस मुद्दे पर बोल पड़े हैं। उन्होंने कहा है कि “भारत की संप्रभुता से समझौता नहीं किया जा सकता है। बाहरी लोग भारतीय मुद्दों पर दर्शक हो सकते हैं लेकिन प्रतिभागी नहीं हो सकते। आइए एक राष्ट्र के रूप में एकजुट रहें।

अब ऐसे में इन लोकप्रिय शख्सियतों पर सवाल भी उठाए जा रहे हैं। दो महीने से चल रहे आंदोलन पर ये सेलेब्रिटी नहीं बोले। किसान आंदोलन के दौरान 150 से ज्यादा किसानों की मौत हो गई फिर भी किसी ने आवाज नहीं उठाई। नरेंद्र मोदी सरकार के तमाम पैंतरों पर भी इन कलाकारों ने किसानों के साथ सहानुभूति नहीं जताई। लेकिन जब दुनिया के मानवाधिकार कार्यकर्ता इस मामले पर बोल रहे हैं तब ये सभी लोग खुलकर बोल रहे हैं।

हालांकि इस बात की भी आलोचना हो रही है कि भारत के आंतरिक मुद्दों पर बाहरी लोगों को नहीं बोलना चाहिए। यहां तक कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी आज एक प्रेस कांफ्रेंस में यही बात कही। एक पत्रकार के सवाल का जवाब देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि “किसान आंदोलन भारत का आंतरिक मामला है। इसे भारत के लोग ही सुलझाएंगे। सरकार को कानून वापस लेना होगा ये बात स्पष्ट है।

Related Articles

Leave a Comment