Latest News
Home दुनिया नार्वे के प्रधानमंत्री पर कोविड नियमों के उल्लंघन के लिए लगा जुर्माना, भारत के प्रधानमंत्री?

नार्वे के प्रधानमंत्री पर कोविड नियमों के उल्लंघन के लिए लगा जुर्माना, भारत के प्रधानमंत्री?

by Khabartakmedia

दुनिया में एक देश है नार्वे। एर्ना सोलबर्ग इस देश की वर्तमान प्रधानमंत्री हैं। एर्ना सोलबर्ग पर नार्वे की पुलिस ने शुक्रवार को जुर्माना लगा दिया है। क्योंकि पुलिस ने पाया कि प्रधानमंत्री एर्ना सोलबर्ग कोविड नियमों का उल्लंघन किया है। नार्वे पुलिस के मुताबिक पीएम एर्ना सोलबर्ग ने प्रशासन द्वारा जारी कोविड नियमों को तोड़ा है। इसलिए उन पर जुर्माना लगा दिया गया है। एर्ना सोलबर्ग नार्वे की प्रधानमंत्री हैं इस बात का फर्क नार्वे पुलिस पर नहीं पड़ी।

दरअसल नार्वे की प्रधानमंत्री एर्ना सोलबर्ग ने अपने घर एक जन्मदिन पार्टी का आयोजन किया था। जिसमें बहुत से लोग इकट्ठा हुए थे। इस तरह उस पार्टी में कोविड से बचाव के नियमों का उल्लंघन हुआ। जिसके बाद नार्वे पुलिस ने अपने प्रधानमंत्री पर कार्रवाई कर दिया।

भारत की व्यवस्था:

नार्वे की यह घटना भारत के प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है। क्या भारत में ऐसा हो सकता है कि पुलिस प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर कोविड के नियम ना मानने के लिए जुर्माना लगा दे? भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पश्चिम बंगाल में जमकर चुनावी रैलियां कर रहे हैं। गृह मंत्री अमित शाह रोड शो कर रहे हैं। इन कार्यक्रमों में लाखों लोग इकट्ठा हो रहे हैं। जाहिर है कि शारीरिक दूरी के नियमों को आसानी से रौंदा जा रहा है। बात की जाए मास्क पहनने की तो कई मौकों पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री खुद भी बगैर मास्क के देखे जा रहे हैं।

यह कोई रहस्य नहीं रह गया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह लगातार कोविड नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। लेकिन क्या भारत की कोई भी संस्था इन दोनों नेताओं पर जुर्माना लगा सकती है? क्या कोई इनसे इस बात के लिए जवाब भी मांग सकता है? क्या भारत की कोई भी अदालत से लेकर पुलिस प्रशासन तक ऐसा कदम उठा सकता है?

प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी कहने को देशभर के मुख्यमंत्रियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक करते हैं। ताकि कोविड के बढ़ते संक्रमण को लेकर चर्चा हो सके। बिगड़ते हालात पर काबू पाया जा सके। प्रधानमंत्री मोदी अपने भाषणों में मास्क पहनने की बात भी कह रहे हैं। लेकिन पश्चिम बंगाल में लाखों की भीड़ इकट्ठा करके रैलियां भी कर रहे हैं। ऐसे में एक तरफ भीड़ ना लगाने की अपील और दूसरी ओर अपने ही सरकार द्वारा बनाए गए नियमों को तोड़ने का काम जारी है। अब सवाल उठता है कि क्या नार्वे पुलिस की तरह भारत की पुलिस प्रधानमंत्री पर जुर्माना लगा सकती है?

Related Articles

Leave a Comment