Latest News
Home ताजा खबर चेतावनी: लाशों हो जाओ सावधान, टायर और पेट्रोल से हो सकती है दाह संस्कार!

चेतावनी: लाशों हो जाओ सावधान, टायर और पेट्रोल से हो सकती है दाह संस्कार!

by Khabartakmedia

उत्तर प्रदेश में क्रूरता और नीचता के बीच एक अघोषित रेस चल रही है। रेस ऐसी जिसमें सारी हदें पार कर जानी है। क्रूरता और नीचता दोनों अपने सबसे ऊंचे स्थान पर पहुंचे में लगे हुए हैं। इस दौड़ में क्रूरता और नीचता दोनों में बड़ी जोरदार टक्कर देखने को मिल रही है। मुकाबला इतना कड़ा है कि दोनों में कोई भी पिछड़ नहीं रहा है। एक साथ एक ही रफ्तार से दौड़े जा रहे हैं। इनकी रफ्तार योगी आदित्यनाथ सरकार की कागजी फरमानों से भी तेज है। क्रूरता और नीचता की सबसे प्रबल साथी बनकर उभरी है खुद योगी आदित्यनाथ सरकार। उत्तर प्रदेश में हर रोज मानवता एक सीढ़ी नीचे उतरती जा रही है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो बड़ी तेजी से फैल रहा है। इसे कई लोगों ने शेयर किया है। बहुत से लोगों ने मुकदमा हो जाने के डर से शेयर नहीं भी किया है। खैर! ये वीडियो उत्तर प्रदेश के बलिया जिले की है। यहां एक लावारिश लाश को पुलिस ने खुद ही जलाया। इसी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सवाल है कि इसमें आपत्तिजनक क्या है? दरअसल उस लावारिश लाश को टायर रखकर और पेट्रोल छिड़क कर जलाया गया। इसी क्रूर और नीच हरकत को लेकर प्रशासन पर सवाल उठ रहा है।

हाथ में बोतल लिए लाश को जलाता एक शख्स

सरकार का है हुक्म:

पिछले कुछ दिनों में मीडिया रपटों में देखा गया है कि किस तरह बलिया में नदी किनारे लाशें दफनाई गई हैं। ये किस्सा उत्तर प्रदेश के कई अन्य जिलों का भी है। इसे लेकर सरकार की बड़ी फजीहत हो रही है। इसलिए सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने बीते दिन एक आदेश दिया कि नदी किनारे कोई भी लाश नहीं दफनाई जाएगी। इसका जिम्मा प्रशासन के हाथ में है कि नदी किनारे लाशें न दफनाई जाएं।

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद पुलिस हरकत में आ गई। फटाफट अलग-अलग जिलों में नदी किनारे सख्ती बढ़ने लगी। इसी बीच अब बलिया पुलिस का यह रूप सामने आया है। सवाल है कि क्या यह ख्याल भी किसी इंसान के दिमाग में आ सकता है? एक मृत व्यक्ति को जिसे किसी कारणवश सम्मानपूर्ण अंतिम संस्कार भी नसीब नहीं हुई, उसे टायर से जला दिया जाए! वो भी पेट्रोल छिड़क कर! उत्तर प्रदेश में क्रूरता और नीचता ने अब अपने लिए एक नई रेखा खींच ली है।

पांच हुए निलंबित:

वीडियो वायरल होने पर प्रशासन और सरकार दोनों सवालों के घेरे में आ गए। इस पशुता के लिए लोगों ने गुस्सा जाहिर किया। सोशल मीडिया पर खूब आलोचना होने लगी। इसके बाद पुलिस ने इस पर कार्रवाई की। कार्रवाई इसलिए ताकि लोगों का गुस्सा शांत किया जा सके। इस वहशीपन से संबंधित पांच आरक्षियों को निलंबित कर दिया है। जबकि मामले की जांच के निर्देश भी दिए गए हैं।

Related Articles

Leave a Comment