Latest News
Home राजनीति न्यूजीलैंड उच्च आयोग ने इंडियन यूथ कांग्रेस के श्रीनिवास से मांगी मदद, फिर दबाव में डिलीट कर दिया ट्वीट?

न्यूजीलैंड उच्च आयोग ने इंडियन यूथ कांग्रेस के श्रीनिवास से मांगी मदद, फिर दबाव में डिलीट कर दिया ट्वीट?

by Khabartakmedia

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में ट्विटर में “सिस्टम” का रूप धारण कर लिया है। अस्पताल में बेड, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन और दवाई को लेकर पूरा ट्विटर अटा पड़ा है। हर कोई मदद मांग रहा है। अपने किसी मरीज के लिए फरियाद कर रहा है। इस संक्रमण काल में जो लोग पूरे दमखम से मदद में लगे हुए हैं, उनसे आग्रह कर रहे हैं। किसी अस्पताल में भर्ती के लिए तो कहीं ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लोग इंडियन यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास, सोनू सूद और डॉ. कुमार विश्वास जैसे लोगों से अपील कर रहे हैं।

मदद की गुहार लगाने वालों में छोटे बड़े हर दर्जे के लोग हैं। क्योंकि भारत की केंद्र और राज्य की सरकारों ने हर किसी को नाउम्मीद कर दिया है। अस्पतालों की व्यवस्था इतनी चौपट है कि अदना हो या आला, किसी को भी आसानी से इलाज नहीं मिल पा रहा है। इसी तरह रविवार की सुबह भी एक मदद मांगती हुई ट्वीट आई। ट्वीट किसी आम आदमी ने नहीं की थी। ये ट्वीट भारत में मौजूद न्यूजीलैंड के उच्च आयोग की ओर से की गई। न्यूजीलैंड उच्च आयोग ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से मदद मांगते हुए ट्वीट किया। इस ट्वीट में उच्च आयोग ने इंडियन यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास और उनकी टीम को टैग किया।

न्यूजीलैंड उच्च आयोग की ट्वीट, जिसे बाद में डिलीट कर दी गई

ट्वीट से पता चलता है कि न्यूजीलैंड के उच्च आयोग में किसी व्यक्ति की हालत गंभीर थी और उसे ऑक्सीजन की जरूरत थी। लेकिन कुछ ही देर बाद ये ट्वीट डिलीट कर दिया गया। फिर न्यूजीलैंड उच्च आयोग ने अपनी पुरानी ट्वीट पर स्पष्टीकरण देते हुए एक ट्वीट किया। लिखा कि “We are trying all sources to arrange for oxygen cylinders urgently and our appeal has unfortunately been misinterpreted, for which we are sorry.” न्यूजीलैंड दूतावास ने कहा कि “हम जल्द ही ऑक्सीजन सिलेंडर के इंतेजाम के लिए सभी स्रोतों से कोशिश कर रहे हैं। हमारी मदद की अपील को गलत तरीके से बताया गया, जिसके लिए हमें खेद है।

ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर पहुंचे श्रीनिवास:

श्रीनिवास जिस तरह तरह हर किसी की मदद कर रहे हैं ठीक उसी तरह न्यूजीलैंड उच्च आयोग की सहायता के लिए भी आगे आए। उन्होंने तुरंत ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था की और अपने टीम के 2-3 लोगों के साथ न्यूजीलैंड उच्च आयोग पहुंच गए। उच्च आयोग के दरवाजे पर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर श्रीनिवास खड़े रहे लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला। दरवाजा नहीं खुलने पर श्रीनिवास ने न्यूजीलैंड दूतावास को जवाब देते हुए फोटो शेयर किया। उन्होंने अपनी ट्वीट में लिखा कि “हम न्यूजीलैंड दूतावास की गेट पर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर खड़े हैं। कृपया गेट खोलें और इस समय जान बचाएं।”

कहां फंसा मामला:

बहुत सीधी सी बात है कि दिल्ली स्थित न्यूजीलैंड उच्च आयोग के किसी व्यक्ति को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ी। कोरोना महामारी में ये समस्या अब व्यापक हो चुकी है। अस्पतालों व अन्य जगहों पर ऑक्सीजन सिलेंडर मिल पाना दुर्लभ हो चुका है। ऐसे में न्यूजीलैंड उच्च आयोग ने श्रीनिवास और उनकी टीम को टैग करके ऑक्सीजन सिलेंडर मांग ली। अब इसमें समस्या क्या है? उच्च आयोग ने केंद्र सरकार के किसी मंत्री, खासकर विदेश मंत्री से मदद मांगने के बजाए श्रीनिवास से मदद मांगी। अब लोगों ने इस पर केंद्र सरकार पर सवाल उठाना शुरू कर दिया। कहने लगे कि स्थिति इतनी भयवाह है कि अब न्यूजीलैंड उच्च आयोग को भी भारत की नरेंद्र मोदी सरकार पर भरोसा नहीं रहा। उन्होंने भी विपक्षी दल के लोगों से मदद की गुहार लगाई।

जाहिर सी बात है कि इसे लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बना। अब ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि सरकार के दबाव में आकर न्यूजीलैंड दूतावास ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया और खेद भी जता दिया।

Related Articles

Leave a Comment