Latest News
Home ताजा खबर जय श्री राम के नारे पर भड़क उठीं ममता बनर्जी, मंच पर बैठे थे नरेंद्र मोदी!

जय श्री राम के नारे पर भड़क उठीं ममता बनर्जी, मंच पर बैठे थे नरेंद्र मोदी!

by Khabartakmedia

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान झुंझला गईं। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी पधारे थे। नरेंद्र मोदी मंच पर बैठे हुए थे, ममता बनर्जी ने खरी खोटी सुनाई और अपना भाषण नहीं दिया। क्योंकि कुछ लोग ममता बनर्जी के भाषण के समय “जय श्री राम” का नारा लगा रहे थे।
पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती के अवसर पर एक आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में हिस्सा लेने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी पहुंची थीं। दोनों धुर विरोधियों का एक साथ मंच पर आना वाकई दिलचस्प था। लेकिन यह संभव हुआ क्योंकि एक स्वतंत्रता सेनानी की जयंती है आज। कार्यक्रम के दौरान जब संचालक ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भाषण देने के लिए बुलाया तभी कुछ लोग “जय श्री राम” का नारा लगाने लगे। संचालक ने इन लोगों से चुप रहने की अपील की तो कुछ बात बनी। ममता बनर्जी जैसे ही माइक तक पहुंची नारेबाजी फिर शुरू हो गई। इस बात पर ममता बनर्जी भड़क उठीं। उन्होंने मंच से पीएम की मौजूदगी में ही दो झार सुना दिया।

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

उन्होंने कहा कि “यह कार्यक्रम किसी राजनीतिक दल का नहीं है। सभी जनता का है। मैं आभारी हूं प्रधानमंत्री और सांस्कृतिक मंत्रालय की जो इन्होंने कोलकाता में यह कार्यक्रम आयोजित किया।” उन्होंने आगे कहा कि “किसी को आमंत्रण देकर उसे बेइज्जत करना यह आपको शोभा नहीं देता।” जाहिर तौर पर ममता बनर्जी का इशारा मंच पर बैठे नरेंद्र मोदी की तरफ था।

वीडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://www.facebook.com/watch/?v=886053258873260

गौरतलब है कि भारत सरकार ने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी। सुभाष चन्द्र बोस जन्म से एक बंगाली थे। उनकी जयंती पर इस तरह का ऐलान और ऐसा भव्य आयोजन अपने आप में कई लक्ष्यों को समेटे हुए है। इन बातों का महत्व तब और बढ़ जाता है जब आने वाले कुछ ही महीने में पश्चिम बंगाल में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। हालांकि इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपना उद्बोधन दिया। मोदी ने कहा कि “आज अगर नेताजी जिंदा होते और इस नए भारत को देखते तो कैसा महसूस करते, ये अपने आप में अचरज की बात है।” उन्होंने अपने भाषण में भारतीय सेना की बढ़ती ताकत और कोरोना वैक्सीन के निर्माण को लेकर भी बातें कही।

Related Articles

Leave a Comment