Latest News
Home अपराध दर्दनाक: शराब तस्कर को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, सिपाही को मौत के घाट उतारा!

दर्दनाक: शराब तस्कर को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, सिपाही को मौत के घाट उतारा!

by Khabartakmedia

उत्तर प्रदेश में अपराधियों के हौसले आसमान छू रहे हैं। पुलिस का खौफ अपराधियों के मन से नदारद हो चुका है। मंगलवार को इस बात की पुष्टि करने वाली घटना सामने आई है। मामला कासगंज जिले के सिढ़पुरा थाना का है। यहां पुलिस की एक टीम शराब माफिया को पकड़ें पहुंची थी। तभी पुलिस पर जानलेवा हमला हो गया।

सिढ़पुरा में एक जगह है नगला धीमर। पुलिस को ऐसी सूचना मिली थी कि इस गांव में शराब का अवैध कारोबार बड़े स्तर पर चल रहा है। इसी के आधार पर पुलिस की एक टीम गांव में दबिश देने पहुंची। तभी पुलिस पर ही हमला हो गया। शराब माफियाओं ने एक सिपाही, एसआई और दरोगा को बंधक बना लिया। पुलिस वालों पर घातक प्रहार हुआ। अपराधियों ने इस दौरान सिपाही की हत्या कर दी और लाश को फेंक दिया। हमले में एसआई लापता हो गए और कहीं और घायल हालत में मिले। जबकि दरोगा एक पेड़ में बंधे हुए पाए गए। दरोगा की स्थिति काफी नाजुक बताई जा रही है। खबर है कि दरोगा पर भाले से हमला किया गया है।

मृतक सिपाही (फोटो: आज तक)

सीएम का आदेश, लगेगा एनएसए:

घटना की सूचना मिलते ही सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हरकत में आ गए। मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है कि इस काण्ड में संलिप्त लोगों पर एनएसए लगाकर कठोर कार्रवाई की जाए। साथ ही सीएम ने तुरंत अनुदान राशि की घोषणा की है। इस हमले में जान गंवाने वाले सिपाही के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान भी हुआ है।

गौरतलब है कि इस घटना ने एक बार फिर कानपुर के बिकरु कांड की याद दिला दी है। जब पुलिस की एक टीम बिकरु गांव में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने पहुंची थी। तभी अचानक पुलिस पर चौतरफा हमला हो गया। विकास दुबे के लोगों ने उस रात पुलिस के कई जवानों को गोली से छलनी कर दिया था। बता दें कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठते रहे हैं। योगी सरकार अपने आदेशों में कतई सख्त दिखती है। लेकिन जमीनी हकीकत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दावे से ठीक उलटा है।

Related Articles

Leave a Comment