Latest News
Home कारोबार घर में रखेंगे शराब तो लेना होगा 12 हजार का लाइसेंस, योगी सरकार का फैसला

घर में रखेंगे शराब तो लेना होगा 12 हजार का लाइसेंस, योगी सरकार का फैसला

by Khabartakmedia

उत्तर प्रदेश के आबकारी विभाग ने एक अतरंगी आदेश जारी किया है। जहरीली शराब की की खेप पर लगाम कसने में विफल आबकारी विभाग की यह नीति चौंका देगी। अब उत्तर प्रदेश में यदि कोई भी व्यक्ति अपने घर में शराब रखता है या पीता है तो उसे लाइसेंस लेना होगा। जी हां, आपने ठीक पढ़ा। लाइसेंस लेना होगा घर में शराब रखने और पीने के लिए। लाइसेंस के लिए अप्लाई करना होगा। एकमुश्त रुपया भी देना पड़ेगा लाइसेंस के लिए। लाइसेंस की कीमत 12 हजार रुपए हैं। लाइसेंस एक साल तक मान्य होगी।


आबकारी विभाग के इस नए फैसले के मुताबिक घर में शराब रखने या पीने के लिए 12 हजार रूपए जमा कर लाइसेंस लेनी होगी। लाइसेंस आबकारी विभाग ही देगा। इसके आलावा लाइसेंस लेने वाले को 51 हजार रुपए की गारंटी शुल्क भी जमा करना होगा। यह सब जमा होगा जिले के आबकारी विभाग के कार्यालय में। यानी कुल मिलाकर 63 हजार रुपए। मामूली रकम नहीं है यह। सरकारी आदेश में दारू के ब्रांड के साथ कोई भेदभाव नहीं किया गया है। यह नियम देशी से लेकर विदेशी तक हर ब्रांड पर लागू होगा।

आदेश पर चर्चा चालू:


बता दें कि लाइसेंस लेने के लिए एक शपथ पत्र भरवाया जाएगा। जिसमें यह भी सुनिश्चित कराना होगा कि शराब जहां रखी जाएगी वहां कोई 21 वर्ष से कम आयु का व्यक्ति ना पहुंचे। उत्तर प्रदेश में इस नए नवेले आदेश पर खूब चर्चा हो रही है। लोगों को यह कानून नागवार गुजर रहा है। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि अब कालाबाजारी और भी बढ़ सकती है। क्योंकि पुलिस हर किसी पर निगाह नहीं रख सकती है। कुछ निगाह उसी शराब के बूंदों से बंद भी हो जाएंगे। माने कि शराब के गोरखधंधे में पुलिस की संलिप्तता किसी से छुपी नहीं है। लोगों का इशारा इसी तरफ है। हालांकि यह आने वाले दिनों में पता लगेगा कि इस फैसले का असर बाजार से लेकर जनभावनाओं तक पर क्या पड़ता है!

Related Articles

Leave a Comment