Latest News
Home शिक्षा ITI अब 2 से 4 पर आई, छात्र परीक्षा या प्रोन्नति की दे रहे दुहाई! मंत्री को है कसके नींद आई!

ITI अब 2 से 4 पर आई, छात्र परीक्षा या प्रोन्नति की दे रहे दुहाई! मंत्री को है कसके नींद आई!

by Khabartakmedia

ITI यानी कि Industrial Training Institute. आज कल ITI के विद्यार्थी ट्विटर पर ट्रेनिंग कर रहे हैं। किस बात की ट्रेनिंग? हैशटैग ट्रेंड कराने की। लेकिन जिन लड़के लड़कियों को अपनी पढ़ाई करनी चाहिए और परीक्षा की तैयारी में लगना चाहिए वो हैशटैग क्यों ट्रेंड करा रहे हैं? क्योंकि परीक्षा विभाग और जिम्मेदार मंत्रियों की यही मर्जी है। ITI के हजारों विद्यार्थी अपनी परीक्षा और परीक्षा के नतीजों के लिए ट्विटर पर संघर्ष कर रहे हैं।

Covid-19 महामारी के चलते हर परीक्षा में देर सबेर देखने को मिल रही है। ITI भी इससे अछूता नहीं है। कोरोना संक्रमण के चलते ITI की परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं। परीक्षा को लेकर कोई स्पष्ट दिशा निर्देश शासन की ओर से जारी नहीं की गई है। ताकि यह पता चल सके कि परीक्षाएं कब आयोजित होंगी? इनका कहना है कि यदि परीक्षा नहीं कराई जा सकती तो सभी विद्यार्थियों को प्रोन्नत (Promote) कर दिया जाए। यही वजह है कि ITI विद्यार्थी ट्विटर पर हैशटैग ट्रेंड करा रहे हैं। #itipromotion.

दूसरी समस्या परीक्षा परिणामों को लेकर है। ITI विद्यार्थियों का कहना है कि जो परीक्षाएं हो चुकी हैं उनके नतीजे जारी कर दिए जाएं। ताकि ये नौजवान रोजगार के लिए आगे की रणनीति बना सकें। लेकिन एक साल बीत चुका है परीक्षा परिणाम को लेकर भी कोई सूचना नहीं है। इसलिए ITI वाले युवा एक और हैशटैग ट्रेंड करा रहे हैं। #itiresults.

समस्या समझिए:

बहुत तकनीकी बातें छोड़कर सीधे दिक्कत पर आते हैं। आखिर क्यों ITI विद्यार्थी ट्विटर पर हैशटैग दौड़ा रहे हैं। छात्र छात्राओं का कहना है कि अगर परीक्षा में हो रही देरी के चलते पूरा साल बर्बाद हो रहा है। जो पढ़ाई दो साल में पूरी है जानी चाहिए थी उसे 3-4 साल लग रहे हैं। इससे आने वाले भविष्य में समस्या पैदा होगी। नौकरी मिलने में कठिनाई होगी। इसलिए अगर परीक्षा करा पाना मुश्किल है तो प्रोमोशन पर ध्यान दिया जाए। इस पर विचार किया जाए।

इसके अलावा ITI की जो परीक्षाएं हो चुकी हैं उनके नतीजे जारी किए जाएं। विद्यार्थियों की समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर परीक्षा के परिणाम जारी करने में क्या मुसीबत हो रही है। नतीजे देरी से आएंगे तो फिर साल बर्बाद हो जाएगा।

खबर तक Media ने ट्विटर पर एक नंबर जारी किया था। कहा गया था कि ITI के छात्र अपनी समस्या हमें बताएं। इस पर कई विद्यार्थियों ने अपनी समस्याओं जो प्रशासन के कारण पैदा हुई हैं, को हमसे साझा किया। मध्यप्रदेश के सतना के रहने वाले शिवांक शुक्ला की ने बताया कि:

“मैं सतना के सरकारी ITI College का विद्यार्थी हूं। फाइनल ईयर चल रहा है। 2 साल का कोर्स है। लेकिन अब चार साल होने को हैं। लेकिन अब तक डिग्री नहीं मिली। ना परीक्षा हो रही है ना प्रोमोशन हो रहा है।”

रचनात्मक है ट्विटर का संघर्ष:

ITI के छात्र पूरी तैयारी के साथ ट्विटर पर अभियान छेड़े हुए हैं। शायद उन्होंने देखा है SSC के नौजवानों को ट्विटर आंदोलन। परीक्षा फॉर्म से परीक्षा के नतीजे और फिर नियुक्ति पत्र तक के लिए ट्विटर पर आंदोलन हुए हैं। दरअसल Digital India का आंदोलन स्थल ट्विटर ही है। जहां लाखों छात्र एक साथ एक ही हैशटैग को ट्वीट करते हैं। जिम्मेदार मंत्रियों और नेताओं को टैग करते हैं।

ITI के विद्यार्थियों ने लगभग अपने हर ट्वीट में सांसद महेंद्र नाथ पांडेय को टैग किया है। महेंद्र नाथ पांडेय केंद्रीय कौशल विकास मंत्री हैं। ITI का मामला उन्हीं के मंत्रालय से जुड़ा है। महेंद्र नाथ पांडेय को कई हजार विद्यार्थियों ने टैग किया है। अपनी समस्याएं लिखी हैं। कुछ सवाल किए गए हैं। लेकिन कौशल विकास मंत्री मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। उनके ट्विटर टाइमलाइन पर ITI छात्रों की समस्याओं से जुड़ा एक भी ट्वीट नहीं दिखता है। हां लेकिन उनकी टाइमलाइन पर श्रद्धांजलि और बधाई वाले खूब सारे ट्वीट देखने आसानी से मिल जाएंगे। इसके अलावा पीएमओ और प्रधानमंत्री की ट्वीट का रीट्वीट भी दिख जाएगा।

देखना होगा कि लाखों छात्रों की फरियाद पर कब मंत्री जी के कान खड़े होते हैं? बहरहाल ये विद्यार्थी ट्विटर पर अपने वीडियो पोस्ट कर रहे हैं। लगातार हैशटैग ट्रेंड करा रहे हैं।

Related Articles

Leave a Comment