Latest News
Home मनोरंजन Indian Idol से बाहर हुए साहिल सोलंकी ने बताई पूरे शो की हकीकत, जजों पर भी की टिप्पणी

Indian Idol से बाहर हुए साहिल सोलंकी ने बताई पूरे शो की हकीकत, जजों पर भी की टिप्पणी

by Khabartakmedia

भारत का मशहूर संगीत रिएलिटी शो इंडियन आइडल एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। सोशल मीडिया पर शो की सच्चाई को लेकर खूब बहस चल रही है। शो में आए प्रतिभागियों के गरीबी और मजबूरी की दुखभरी कहानी के दम पर टीआरपी बटोरने को लेकर हंगामा मचा हुआ है। दरअसल इस समय इंडियन आइडल का 12 वां सीजन सोनी चैनल पर हर शनिवार और रविवार को रात आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक दिखाया जा रहा है। शो के आखिरी एपिसोड (3 जनवरी की रात) में टॉप-15 प्रतिभागियों में से एक की छटनी की गई और टॉप-14 के नाम का ऐलान किया गया। रविवार को शो से जिस प्रतिभागी को बाहर किया गया उनका नाम साहिल सोलंकी है। साहिल सोलंकी को शो के जज और जनता के सबसे कम वोट मिलने के कारण इंडियन आइडल से एलिमिनेट होना पड़ा। शो से बाहर होने पर साहिल सोलंकी ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें उन्होंने शो से जुड़ी कुछ आंखे खोल देने वाली बातें बताई।

गायक साहिल सोलंकी (फोटो:इंस्टाग्राम)

साहिल का खुलासा:

वीडियो देखने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें ➡️

https://www.instagram.com/tv/CJoV_sIBDix/?igshid=10htwmm3w4m30

साहिल सोलंकी ने अपनी वीडियो में बताया कि कैसे इंडियन आइडल की क्रिएटिव टीम उन्हें लगातार किनारे लगा रही थी और प्रोमोट नहीं कर रही थी। क्रिएटिव टीम हर कंटेस्टेंट के साथ एक कहानी चलानी चाहती है लेकिन उन्हें साहिल के साथ कोई कहानी नहीं मिल पा रही थी। इंडियन आइडल पर अक्सर ये इल्जाम लगते हैं कि वे प्रतिभागियों के गरीब पृष्टभूमि और एक लाचार व मजबूर रूप की कहानी दिखाकर या मनगढ़ंत बनाकर टीआरपी बटोरते हैं। इंडियन आइडल की क्रिएटिव टीम ऐसे तरकीबों का इस्तेमाल किसी खास प्रतिभागी के ब्रांडिंग के लिए भी करती है। साहिल ने अपनी वीडियो में कहा कि उन्हें उनकी महारत वाले गाने नहीं दिए जा रहे थे जबकि दूसरों को उनके लायक गाने दिए जा रहे थे। साहिल सोलंकी का कहना है कि Sony TV चैनल अपने विभिन्न सोशल मीडिया के जरिए भी सभी के गानों को शेयर कर रही थी लेकिन साहिल के वीडियो शेयर नहीं किए जा रहे थे। साहिल ने इंडियन आइडल के जजों हिमेश रेशमिया, विशाल ददलानी और नेहा कक्कर को लेकर कहा की शो के जज सही थे वे कभी अच्छे और कभी बुरे कमेंट्स देते थे लेकिन वो सही था। साहिल का कहना है कि जब कार्यक्रम की एडिटिंग की जाती थी तो उसमें मेरे हिस्से में जजों की बुरी टिप्पणियों को ज्यादा दिखाया जाता था जबकि दूसरे प्रतिभागियों के साथ अच्छे-अच्छे कमेंट्स दिखाए जाते थे।

Related Articles

Leave a Comment