भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान कैसे बढ़ा आगे?

0
409
कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में भारत ने 100 करोड़ डोज टीके का आंकड़ा पार कर लिया है। (फोटो: Sand Artist सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाई गई Sand Art.)
कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में भारत ने 100 करोड़ डोज टीके का आंकड़ा पार कर लिया है। (फोटो: Sand Artist सुदर्शन पटनायक द्वारा बनाई गई Sand Art.)

कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में भारत ने 100 करोड़ डोज टीके का आंकड़ा पार कर लिया है। गुरुवार की सुबह भारत ने सौ करोड़ टीके लगाने का रिकॉर्ड बनाया। दुनिया भर में अब तक महज चीन ने ही इस आंकड़े को पार किया है। इस मौके पर दिल्ली के लाल किला परिसर में 225 फीट लंबे और 150 फीट चौड़े तिरंगे का प्रदर्शन किया गया। खबरों के मुताबिक तिरंगे का वजन 1400 किलोग्राम था।

भारत ने आज सुबह 9:48 में 100 करोड़ वैक्सीन लगाने के आंकड़े को स्पर्श किया। भारत पूरी दुनिया में ऐसा करने वाला सिर्फ दूसरा देश ही है। सौ करोड़ के आंकड़े में टीके की पहली और दूसरी दोनों खुराक शामिल है।

भारत का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कीर्तिमान के लिए देश की टीका बनाने वाली कंपनियों और स्वास्थ्य कर्मियों का आभार जताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “आज 21 अक्टूबर, 2021 का ये दिन, इतिहास में दर्ज हो गया है। भारत ने अब से कुछ देर पहले 100 करोड़ वैक्सीन डोज का आंकड़ा पार कर लिया है।”

प्रधानमंत्री मोदी आगे लिखते हैं कि “100 साल में आई सबसे बड़ी महामारी का मुकाबला करने के लिए, देश के पास अब 100 करोड़ वैक्सीन डोज का मजबूत सुरक्षा कवच है। ये उपलब्धि भारत की है, भारत के प्रत्येक नागरिक की है। मैं देश की वैक्सीन मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियों, वैक्सीन ट्रांसपोर्टेशन में जुटे कर्मयोगियों, वैक्सीन लगाने में जुटे हेल्थ सेक्टर के प्रोफेशनल्स, सभी का आभार व्यक्त करता हूं।”

राज्यों में कौन है सबसे आगे?

टीकाकरण के मामले में भारत में सबसे आगे देश की सबसे बड़ी आबादी वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। उत्तर प्रदेश में कुल 9.43 करोड़ वैक्सीन डोज लगाए गए हैं। उत्तर प्रदेश के बाद सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 6.43 करोड़ वैक्सीन डोज लगे हैं। पश्चिम बंगाल 4.97 करोड़ टीके की खुराक के साथ तीसरे स्थान पर है। गुजरात में 4.41 करोड़ वैक्सीन डोज लगी है। पांचवें स्थान पर मध्य प्रदेश है। जहां 4.94 करोड़ टीके की डोज लगाई गई है।

टीकाकरण अभियान का सफर:

भारत में इस साल 16 जनवरी को टीकाकरण के पहले चरण की शुरुआत हुई थी। जिसके तहत कोरोना योद्धाओं को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई। टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू हुआ 1 मार्च से। इसके तहत 60 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों को वैक्सीन लगाई गई। साथ ही गंभीर बीमारी से जूझ रहे, 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन देने की शुरुआत हुई।

देश में 45 साल से ऊपर के सभी लोगों को 1 अप्रैल से टीका लगाई जाने लगी। 18 साल के ऊपर के लोगों को 1 मई से वैक्सीन लगाने की शुरुआत की गई।

बता दें कि फिलहाल देश के 63,467 केंद्रों पर वैक्सीन लगाई जा रही है। इनमें 61,270 सरकारी और 2,197 निजी टीकाकरण केंद्र हैं।

इनपुट: चांदनी शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here