Latest News
Home Uncategorizedपत्रकारिता पत्रकार मंदीप पुनिया को मिली जमानत, कोर्ट ने दी कौन-सी नसीहत?

पत्रकार मंदीप पुनिया को मिली जमानत, कोर्ट ने दी कौन-सी नसीहत?

by Khabartakmedia

फ्रीलांसर पत्रकार मंदीप पुनिया को मंगलवार को जमानत मिल गई। अदालत ने मंदीप की जमानत मंजूर कर ली। उन्हें पच्चीस हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत मिली है। मंदीप पुनिया के वकील ने यह जानकारी दी है।

मंदीप पिछले तीन दिनों से जेल में थे। दिल्ली पुलिस ने उन्हें 30 जनवरी की रात सींघु बॉर्डर से गिरफ्तार किया था। उस वक्त वे सींघु बॉर्डर पर हुए हिंसा की रिपोर्टिंग कर रहे थे। मंदीप के लिए सोशल मीडिया से लेकर जमीन तक खूब आवाजें उठीं। उनके रिहाई की मांग को लेकर पत्रकारों ने दिल्ली पुलिस के मुख्यालय का घेराव भी किया था। अन्य जगहों पर भी उनके समर्थन में लोग आगे आए थे।

गिरफ्तारी के बाद कोर्ट जाते मंदीप पुनिया

पुलिस ने अपनी एफआईआर में आरोप लगाया था कि मंदीप ने सींघु बॉर्डर पर पुलिस वालों के साथ गलत व्यवहार किया। साथ ही उनके काम में व्यवधान डाला। हालांकि कहा जा रहा था कि गिरफ्तारी की असल वजह कुछ और ही है। मंदीप पुनिया ने किसानों के खिलाफ हुए हिंसा में शामिल भाजपा कार्यकर्ताओं के नाम उजागर किए थे। उन्होंने दिल्ली पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े किए थे। जिसके तुरंत बाद पुलिस ने यह कार्रवाई कर दी थी।

आज रोहिणी कोर्ट ने जब जमानत मंजूर किया तो अपने फैसले में कई जरूरी बातें भी कहीं। मसलन अदालत ने कहा कि पत्रकार को गिरफ्तार करने के अगले दिन उन पर मुकदमा लिखा गया। जिस पर सवाल उठे हैं। अदालत ने कहा है कि इस मामले में आरोप लगाने वाला भी पुलिस है और गवाह भी पुलिस ही है। साथ ही न्यायालय ने “जमानत एक नियम है और जेल एक अपवाद” (Bail is a rule and jail is an exception) के सिद्धांत की याद भी दिलाई।

Related Articles

Leave a Comment