Latest News
Home टेक ट्विटर के दफ्तर पहुंची दिल्ली पुलिस, संबित पात्रा के पोस्ट को ‘Manipulated Media’ टैग देने का मामला!

ट्विटर के दफ्तर पहुंची दिल्ली पुलिस, संबित पात्रा के पोस्ट को ‘Manipulated Media’ टैग देने का मामला!

by Khabartakmedia

Twitter India. सोमवार की शाम दिल्ली पुलिस की एक टीम ट्विटर इंडिया के दफ्तर पहुंची। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ट्विटर के ऑफिस का दौरा किया। ट्विटर साउथ दिल्ली और गुड़गांव के दफ्तर में दिल्ली पुलिस की टीम गई थी। लेकिन दिल्ली पुलिस को यहां कोई नहीं मिला। पुलिस ने अपनी बयान में इसे सामान्य गतिविधि बताई है। (यह तस्वीर न्यूज एजेंसी ANI ने जारी की है।)

ट्विटर के कार्यालयों में पुलिस ‘Toolkit’ मामले में पहुंची। ट्विटर ने भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा के टूलकिट वाले पोस्ट पर Manipulated Media का टैग लगा दिया था। पुलिस ने कहा है कि इस मामले में ट्विटर ने एक अस्पष्ट जवाब दिया है। इसलिए पुलिस नोटिस देने उनके कार्यालयों में पहुंची है।

पुलिस ने इस कार्रवाई को नियमित बताया है। “हम यह पता लगाना चाहते थे कि नोटिस देने के लिए सही व्यक्ति कौन है? क्योंकि ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक की ओर से हमें बहुत अस्पष्ट जवाब मिले हैं”, पुलिस ने कहा। इस नियमित दौरे की वीडियो भी सामने आई है। जिसमें साफ दिख रहा है कि ट्विटर इंडिया का दफ्तर खाली है। क्योंकि कंपनी ने अपने ज्यादातर कर्मचारियों को घर से ही काम करने का आदेश दिया है। Work From Home Policy.

क्या है पूरा मामला:

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने 18 मई को एक ट्वीट किया। जिसमें एक डॉक्यूमेंट के स्क्रीनशॉट शेयर किए गए। संबित पात्रा ने इसे ‘Congress Toolkit’ बताया। इसके बाद ये कथित टूलकिट भाजपा नेताओं द्वारा खूब शेयर किया गया। दावा ये है कि कांग्रेस इस टूलकिट के कोविड प्रबंधन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बदनाम करना चाहती है।

हालांकि बाद में यह साफ हो गया कि संबित पात्रा का यह दावा पूरी तरह फर्जी है। क्योंकि जो डॉक्यूमेंट के स्क्रीनशॉट शेयर किए गए थे वो नकली हैं। ट्विटर ने संबित पात्रा के ट्वीट पर Manipulated Media का टैग लगा दिया था। यानी इसे हेरफेर वाला ट्वीट करार दे दिया था।

इसी के बाद से टूलकिट के मामले ने तूल पकड़ा हुआ है। अब दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की इस कार्रवाई ने मामले को और गंभीर बना दिया है। इसे लेकर अब कई तरह की बहसें शुरू हो चुकी हैं। कहा जा रहा है कि यह सब केंद्र की भाजपा सरकार के इशारों पर हो रहा है। नरेंद्र मोदी सरकार अपने आलोचकों और विरोधियों को दबाने की जुगत कर रही है।

Related Articles

Leave a Comment