Latest News
Home Uncategorizedकृषि किसानों को मिल गई गणतंत्र दिवस परेड की अनुमति, लेकिन दिल्ली पुलिस की यह शर्त माननी पड़ी!

किसानों को मिल गई गणतंत्र दिवस परेड की अनुमति, लेकिन दिल्ली पुलिस की यह शर्त माननी पड़ी!

by Khabartakmedia

दिल्ली पुलिस ने किसानों को गणतंत्र दिवस परेड की अनुमति दे दी है। किसान अब 26 जनवरी को बगैर किसी पुलिसिया रुकावट के दिल्ली की सड़कों पर ट्रैक्टर रैली निकाल सकेंगे। देशभर से किसान अपने ट्रैक्टर के साथ इस रैली में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली की सीमाओं पर इकट्ठा होने लगे हैं। किसानों ने इस ट्रैक्टर मार्च को “किसान गणतंत्र परेड” का नाम दिया है।

तय रास्ते से निकलेगी किसान परेड:


बता दें कि पिछले कई दिनों से इस मुद्दे को लेकर गर्माहट चल रही थी। किसान संगठनों और दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों के बीच बातचीत चल रही थी। किसान किसी भी तरह इस परेड को निकालना चाहते थे। लेकिन दिल्ली पुलिस तमाम कारणों से इसे रोकना चाह रही थी। अब जब कोई रास्ता नहीं बचा और किसान नहीं माने तब दिल्ली पुलिस ने एक समझौता कर लिया है। दिल्ली पुलिस और किसान नेताओं के बीच किसान गणतंत्र परेड को लेकर एक नक्शा तैयार किया गया है। जिसमें यह तय हुआ है कि किसानों की यह परेड किस रास्ते दिल्ली के भीतर घुसेगी और फिर निकल जाएगी। दिल्ली पुलिस ने कहा है की किसानों का यह परेड दिल्ली में नहीं रुकेगा। किसान अपने ट्रैक्टर के साथ सिंघु, टिकरी और गाजीपुर सीमा से दिल्ली में प्रवेश करेंगे और फिर हरियाणा में दाखिल होंगे।

योगेंद्र यादव (file photo)


हिंसा की आशंका:

सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए किसानों के परेड को दिल्ली में न रोकने पर बात बनी है। हालांकि दिल्ली पुलिस के कमिश्नर ने कहा है कि किसानों को इस परेड के दौरान सुरक्षा बलों का सहयोग करना होगा। ताकि कोई हुड़दंग ना हो सके। वहीं किसान नेता योगेंद्र यादव ने किसानों से अपील की है कि वे इस परेड में हिस्सा लेने के लिए केवल ट्रैक्टर लेकर आएं। ट्रैक्टर के साथ ट्रॉली ना लाएं।
हर किसी की निगाहें 26 जनवरी के दिन होने वाले इस किसान गणतंत्र परेड पर टिकी है। जिसकी तैयारियां जोर शोर से चल रही है। देश भर के किसान अभी से ही अपने ट्रैक्टर के साथ दिल्ली कि सीमा पर पहुंचने लगे हैं। हालांकि इस दौरान किसान परेड को बदनाम करने के लिए हिंसा की साजिश भी रची जा सकती है। बाहरी तत्व कानून व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश कर सकते हैं। इस बाबत किसानों को सतर्कता बरतनी होगी। ताकि उनके परेड की आड़ लेकर कोई दूसरा हंगामा ना खड़ा कर दे।

Related Articles

Leave a Comment