Latest News
Home पूर्वांचल की खबरवाराणसी Varanasi: ये अस्सी का दरिया है और डूब के जाना है, कहां खोया है विकास मुश्किल इसे पाना है!

Varanasi: ये अस्सी का दरिया है और डूब के जाना है, कहां खोया है विकास मुश्किल इसे पाना है!

by
Assi Chauraha, Varanasi

Varanasi, Assi. बारिश ने वाराणसी का हाल खराब कर रखा है। पहली ही बरसात में वाराणसी की कई सड़कों पर छोटी नदियों का उद्गम हो गया। जल निकासी की समस्या से त्रस्त वाराणसी के लोग सड़कों पर पानी में छबाक छबाक करते चलने को मजबूर हो गए हैं। गत शुक्रवार से ही शहर में ठीक ठाक वर्षा हुई है। जिसकी वजह से शहर के चौराहों पर बुरी तरह जलजमाव देखने को मिला है। अस्सी चौराहा भी इससे अछूता नहीं रहा है।

लंका से सोनारपुरा होते हुए गोदौलिया जाने के बीच ही पड़ता है लोकप्रिय अस्सी का इलाका। अस्सी चौराहा भी यहीं। चौराहे की एक सड़क लंका को तो दूसरा गोदौलिया को जाता है। फिर एक मार्ग दुर्गाकुंड की ओर तो दूसरा अस्सी घाट की ओर निकलता है। अस्सी चौराहे का क्षेत्र बहुत चौड़ा नहीं है। बेहद संकरा है। चौराहे के चारों ओर दुकानें हैं। पान, लस्सी, किराना से लेकर मोबाइल रिपेयरिंग तक की दुकान।

अस्सी चौराहा से दुर्गाकुंड जाने वाली सड़क

वाराणसी के सबसे व्यस्त चौराहों में अस्सी चौराहा की गिनती होती है। पूरे दिन एक पल के लिए भी यह चौराहा शांत नजर नहीं आता है। गाड़ियों की आवाज और राहियों की बकधून हमेशा गूंजती रहती है। लेकिन पिछले 2-3 दिनों में अस्सी का मजा पानी – पानी हो गया है।

जलजमाव ने बढ़ाई मुश्किलें:

बारिश की वजह से यहां भारी जलजमाव है। अस्सी चौराहा का जलजमाव थोड़ा खतरनाक भी है। क्योंकि चौराहे का जो रास्ता दुर्गाकुंड की ओर जाता है, वो पूरी तरह भसा हुआ है। सड़क का एक किनार पूरी तरह से गड्ढे का शक्ल ले चुका है। आसपास के दुकानदार परेशान हैं। जलजमाव के कारण लोगों का आना जाना कम हो गया है। दुकानदारी को धक्का लग गया है। अस्सी चौराहे पर लगा पानी हादसे को खुला निमंत्रण है। कोई भी अनजान राही यहां दुर्घटना का शिकार हो सकता है।

प्रधानमंत्री के विकास गंगा को पार करता एक युवक

गौरतलब है कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है। इस लिहाज से जल निकासी की समस्या का अब तक दूर न होना सवाल खड़े करता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस रास्ते से अब तक कई बार गुजर चुके हैं। कई बार इसी सड़क और इसी अस्सी चौराहे से होकर उन्होंने रोड शो किए हैं। इस लिहाज से अस्सी चौराहा पर लगा पानी प्रधानमंत्री के वादों पर कीचड़ उछाल रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी को क्योटो बनाने का वादा किया था। घाटों के सौंदर्यीकरण को उन्होंने खूब बढ़ावा दिया। कई मुख्य सड़कें खूब चमकाई गईं। सड़क पर लाइट लगाकर विकास को रौशनी दी गई। लेकिन अस्सी चौराहा पर हुआ जलजमाव प्रधानमंत्री के विकास की बत्ती फ्यूज कर रहा है। 2022 का उत्तर प्रदेश चुनाव नजदीक है। देखना होगा की चुनाव के दिनों में इस चौराहे की रूपरेखा बदलती है या फिर इस क्षेत्र के लोगों को विकास की निर्मल धारा में बहने के लिए छोड़ दिया जाता है।

Related Articles

Leave a Comment