Latest News
Home कोरोना वायरस भारत में एक दिन में इतने मरीज कभी नहीं मिले, क्या बेकाबू हो चुकी है कोरोना की स्थिति?

भारत में एक दिन में इतने मरीज कभी नहीं मिले, क्या बेकाबू हो चुकी है कोरोना की स्थिति?

by Khabartakmedia

भारत में बड़ी सहूलियत के साथ कोविड-19 का संक्रमण फैल रहा है। ऐसा लगने लगा है जैसे इस वायरस ने देश में अपनी जड़ें जमा ली हों। पिछले एक हफ्ते में किसी भी दिन कोरोना वायरस संक्रमण ने एक लाख से नीचे की यात्रा नहीं की है। ये जानलेवा वायरस अब हर रोज एक सवा लाख से अधिक लोगों तक पहुंचने लगा है। केंद्र सरकार इस वायरस से लड़ने के नाम पर तरह तरह के फैसले ले रही है। लेकिन उसका फायदा जमीन पर तो फिलहाल नहीं दिख रहा है।

भारत में पिछले चौबीस घंटे में 1,45,384 नए कोविड-19 संक्रमित मिले हैं। सिर्फ एक दिन की संख्या के आधार पर ये अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। पिछले पांच दिन इसी तरह के रिकॉर्डतोड़ रहे हैं। हर रोज सर्वाधिक आंकड़े की जद्दोजहद जारी है। इसी देशभर में 794 लोगों ने अपनी जान भी गंवा दी है। लेकिन मौत के आंकड़ों पर शंका जताई जा रही है। बहुत से पत्रकारों और जमीनी हालात देख रहे लोगों का कहना है कि आंकड़े में खेल हो रहा है। प्रशासन जानबूझकर इस संख्या कम करके बता रहा है। जबकि हकीकत कुछ और ही है।

देशभर में सक्रिय मामलों की तादाद चिंताजनक रूप से आगे बढ़ रही है। सक्रिय मामलों ने दस लाख का आंकड़ा पार कर दिया है। जिस तेजी से यह संख्या आगे बढ़ रही है आने वाले दिनों में देश के सामने अस्पतालों और अन्य सुविधाओं को लेकर गंभीर मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है।

टीकाकरण का हाल:

भारत में अब तक 9,80,75,160 लोगों को स्वदेशी टीका लगाया जा चुका है। इन्हें कोविशील्ड या कोवैक्सीन की खेप दी गई है। हालांकि अब देश के कई राज्यों से वैक्सीन के कमी की बात भी सामने आ रही है। उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली और महाराष्ट्र के कई जिलों में टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन नहीं होने की सूचना चिपकाई गई है। बता दें कि पश्चिम बंगाल में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से वैक्सीन की कमी को लेकर एक पत्रकार ने सवाल किया था। जिसके जवाब में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि “सभी राज्यों में वैक्सीन की जितनी जरूरत है, उतना वैक्सीन भेजा गया है। कहीं कोई कमी नहीं है। ये जानकारी झूठी है।” लेकिन जमीनी हकीकत बता रही है कि गृह मंत्री अमित शाह ने यहां झूठ बोला है।

महाराष्ट्र की सरकार ने खुलकर कोविड-19 वैक्सीन के कमी की बात कही है। जबकि कई स्थानीय पत्रकार उत्तर प्रदेश और बिहार से भी ऐसी खबर दें रहे हैं कि टीकाकरण केंद्रों पर टीका की भारी किल्लत है। लेकिन गृह मंत्री अमित शाह ने एक झटके में इस जानकारी को ही बता दिया। जबकि सच्चाई बयान दे रही है कि गृह मंत्री अमित शाह खुद झूठ बोल रहे हैं। सवाल है कि क्या पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार में व्यस्त गृह मंत्री के पास वैक्सीन की कमी की सूचना नहीं पहुंच रही है? या फिर उन्होंने जानबूझकर झूठ बोला?

Related Articles

Leave a Comment