Latest News
Home राजनीति संसद भवन परिसर में कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल गांधी रहे मौजूद

संसद भवन परिसर में कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल गांधी रहे मौजूद

by Khabartakmedia
Rahul Gandhi Protest in Parliament

Congress Protests in Parliament. गुरुवार को सदन की कार्यवाही सदस्यों के हंगामे के चलते बाधित हो गई। विपक्षी सदस्यों के नारेबाजी और विरोध के बीच सदन की कार्यवाही को दोपहर तक के लिए स्थगित कर दी गई। लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदनों में यही हाल रहा। इसके बाद कांग्रेसी नेताओं ने अपने पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया। कांग्रेस का यह प्रदर्शन तीनों कृषि कानूनों के विरोध में और किसान आंदोलन के समर्थन में था।

संसद भवन परिसर में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, मनीष तिवारी, गौरव गोगोई और प्रताप सिंह बाजवा जैसे कई नेताओं ने कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया। इस दौरान कांग्रेसी नेताओं ने एक बड़ी सी पोस्टर थाम रखी थी। जिसपर “Demand Repeal of Anti Farmers Law” लिखा हुआ था। अपने प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसी सांसदों ने “काले कानून वापस लो” के नारे लगाए।

बता दें कि सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी नेताओं ने अलग अलग मुद्दे उठाने शुरू कर दिए थे। लोकसभा में स्पीकर ओम बिड़ला ने सांसदों को अपने जगह पर बैठने और शांति से सदन चलने देने की बात कही। हालांकि विपक्षी सांसदों ने अपना हंगामा जारी रखा। तब लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया। यही हाल रहा राज्यसभा में भी। यहां भी राज्यसभा के अध्यक्ष वेंकैया नायडू के मना करने के बावजूद शांति नहीं रही। इस वजह से यहां भी कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

जंतर मंतर पर किसान संसद:

संसद भवन परिसर में कांग्रेस का यह प्रदर्शन तब हुआ है जब दिल्ली के जंतर मंतर पर किसानों ने समानांतर संसद लगाई हुई है। किसानों ने संसद भवन से महज कुछ ही दूरी पर स्थित जंतर मंतर पर किसान संसद का आयोजन किया है। यहां किसान अपने मुद्दों पर बातचीत कर रहे हैं।

गौरतलब है कि किसानों ने यह ऐलान किया है कि संसद के पूरे मानसून सत्र के दौरान वे जंतर मंतर पर “किसान संसद” लगाएंगे। इस किसान संसद में हर रोज 200 किसान हिस्सा लेंगे। ये 200 किसान सिंघू बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर से आएंगे। हर रोज सुबह 10:30 बजे से शाम पांच बजे तक किसान संसद का आयोजन होगा।

यह भी पढ़ें:

Related Articles

Leave a Comment