Latest News
Home प्रादेशिक खबरेंउत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश: पिता की शवयात्रा से BDC सदस्य का अपहरण, भाजपा के ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी पर आरोप!

उत्तर प्रदेश: पिता की शवयात्रा से BDC सदस्य का अपहरण, भाजपा के ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी पर आरोप!

by
पिता की शवयात्रा से BDC सदस्य का अपहरण

त्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों की गहमागहमी अपने चरम पर है। किसी कमर्शियल हिन्दी फिल्म की तरह इस चुनाव में ड्रामा और एक्शन की भरमार है। 2021 के पंचायत चुनाव में हर वो काम हुआ है जो अब तक नहीं हुआ था। ये किस्सा सूबे के संत कबीर नगर जिले का है। जहां अपने पिता के अंतिम संस्कार में जा रहे BDC सदस्य अजय का अपहरण हो गया। ताकि उससे अपने पक्ष में वोट डलवाया जा सके।

संत कबीर नगर के नाथनगर की यह घटना है। हाल ही में हुए पंचायत चुनावों में अजय नाम का एक व्यक्ति BDC का सदस्य बना है। शुक्रवार को अजय के पिता का निधन हो गया। अजय अपने घरवालों और पड़ोसियों के साथ पिता का पार्थिव शरीर लेकर अंतिम संस्कार के लिए सरयू घाट पर जा रहा था।

काफी दूर तक पिता की अर्थी को अजय कंधा देता रहा। बीच रास्ते में थकान होने पर वह हट गया और पीछे पीछे चलने लगा। इसी बीच एक चार पहिया गाड़ी पीछे से आई। उसमें से कुछ लोग निकले और अजय को पकड़कर गाड़ी में बैठा लिया। शवयात्रा में शामिल लोग कुछ करते इससे पहले वो गाड़ी अजय को लेकर फरार हो गई। यानी कि पिता की शवयात्रा से BDC सदस्य बेटे अजय का अपहरण हो गया।

अजय के अगवा होने के बाद शवयात्रा सरयू किनारे नहीं गई। बल्कि सीधे उस क्षेत्र के घनघटा थाने पर पहुंची। परिजनों ने पुलिस को इस अपहरण कांड की सूचना दी। पुलिस ने दोषियों को पकड़ने की बात कही है। फिलहाल छानबीन चल रही है। पुलिस अजय का पता लगाने की कोशिश कर रही है।

भाजपा प्रत्याशी पर आरोप:

इस मामले में एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें अजय के पिता की शवयात्रा में शामिल एक बुजुर्ग ने भाजपा के रामवृक्ष यादव पर इस अपहरण का आरोप लगाया है। बुजुर्ग व्यक्ति ने कहा है कि जब वो लोग अर्थी लेकर सरयू किनारे जा रहे थे तभी गाड़ी आई और उसमें से रामवृक्ष यादव के लोग निकले। उन्होंने ही अजय को अगवा किया। गौरतलब है कि रामवृक्ष यादव उस इलाके से भाजपा के ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी हैं।

बता दें कि अजय शुक्रवार की दोपहर तक वाराणसी आया हुआ था। ऐसा नहीं है कि वो वाराणसी में घूमने आया था। बल्कि अजय की पार्टी के लोगों ने उसे वाराणसी भेजा था। ताकि ब्लॉक प्रमुख के चुनाव तक वह सुरक्षित रहे। लेकिन शुक्रवार को अचानक अजय के पिता की मृत्यु हो गई।

पिता के निधन की खबर सुनकर अजय आननफानन में संत कबीर नगर पहुंचा। लेकिन अब वह अगवा कर लिया गया है। पुलिस जांच में जुटी है। देखना होगा कि ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में मतदान से पहले अजय का पता चलता है कि नहीं। उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के लिए मतदान 10 जुलाई को है।

Related Articles

Leave a Comment