21 घंटे खुलेगी BHU की साइबर लाइब्रेरी, विश्वविद्यालय प्रशासन ने जारी किया आदेश

0
293
BHU की सेंट्रल लाइब्रेरी अब 12 घंटे के बजाए 21 घंटे खुलेगी।
BHU की सेंट्रल लाइब्रेरी अब 12 घंटे के बजाए 21 घंटे खुलेगी।

वाराणसी स्थित काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) की सेंट्रल लाइब्रेरी अब 12 घंटे के बजाए 21 घंटे खुलेगी। BHU प्रशासन ने यह आदेश जारी किया है। ट्विटर पर एक ट्वीट करते हुए विश्वविद्यालय की ओर से यह खुशखबरी छात्र-छात्राओं को दी गई। इस फैसले के बाद विश्वविद्यालय में जमकर जश्न मनाया गया है। एक तरह से देखा जाए तो सालों से चल रहे छात्रों के संघर्ष की जीत है ये फैसला।

BHU के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से आज शाम ट्वीट किया गया। जानकारी दी गई कि 28 मार्च से BHU का सयाजीराव गायकवाड केन्द्रीय ग्रंथालय का साइबर लाइब्रेरी स्टडी सेंटर सुबह 8 बजे से सुबह 5 बजे तक खोला जाएगा। यानी 21 घंटों तक लाइब्रेरी छात्र-छात्राओं के लिए खुली रहेगी।

अब तक साइबर लाइब्रेरी स्टडी सेंटर सुबह 8 बजे से रात 11 बजे तक ही खुली रहती थी। लेकिन छात्रों की पुरजोर मांग को देखते हुए अब इसमें बदलाव किया गया है। हालांकि छुट्टी के दिनों में या रविवार को सेंट्रल लाइब्रेरी पहले की ही तरह सुबह 8 बजे से रात 11 बजे तक खुलेगी।

2012 में 24 घंटे खुलती थी लाइब्रेरी:

2012 में पहली बार BHU के सेंट्रल लाइब्रेरी को 24 घंटे के लिए खोलने का फैसला लिया गया था। तब विश्वविद्यालय के कुलपति थे प्रो. लालजी सिंह। लेकिन प्रो. जी.सी. त्रिपाठी जब कुलपति बने तो 24 घंटे सेंट्रल लाइब्रेरी के खुले रहने की व्यवस्था पर रोक लगा दिया गया था। प्रो. जी.सी. त्रिपाठी 2014 में BHU के कुलपति बने थे। 2016 में दोबारा लाइब्रेरी को 24 घंटे खोलने की मांग को लेकर भुख हड़ताल शुरू हुआ था। जिसके बाद 9 छात्रों को विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया था।

प्रो. सुधीर जैन ने बदली व्यवस्था:

बहुत ज्यादा दिन नहीं हुए हैं BHU को नया कुलपति मिले हुए। प्रो. सुधीर जैन ने हाल ही में विश्वविद्यालय की कमान संभाली है। प्रो. सुधीर जैन ने ही छात्र-छात्राओं की मांग को देखते हुए सेंट्रल लाइब्रेरी को 21 घंटे तक खोलने की व्यवस्था शुरू की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here