Latest News
Home ताजा खबर लोकसभा अध्यक्ष की बेटी को लेकर क्यों हो रहा बवाल, पास किया पहली बार में IAS

लोकसभा अध्यक्ष की बेटी को लेकर क्यों हो रहा बवाल, पास किया पहली बार में IAS

by Khabartakmedia

समाज में कई बातों को लेकर एक पूर्वाग्रह बना होता है। इंसान अक्सर इसी पूर्वाग्रह के ढर्रे पर चलकर हर बात की तफ्तीश करता है। एक लोक प्रचलित पूर्वाग्रह यह है कि आईएएस, आईआईटी और नीट जैसे बड़े परीक्षाओं में आर्थिक रूप से कमजोर, लाचार बाप का बेटा और संघर्षों की जीवन गुजार रहे लड़के या लड़कियों का ही चयन होता है। जो कि एक बेबुनियाद बात है। अब यह पूर्वाग्रह हमें क्यों याद आ गया। दरअसल आजकल लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला की छोटी बेटी अंजली बिड़ला सुर्खियों में हैं। अंजली बिड़ला ने भारी-भरकम आईएएस की परीक्षा पहले ही प्रयास में निकाल लिया है। मतलब पहली बार में ही अंजली बिड़ला का चयन भारतीय प्रशासनिक सेवा में हो गया है। आईएएस-2019 की परीक्षा के आरक्षित सीटों का परिणाम पिछले दिनों जारी हुआ जिसमें 89 परीक्षार्थियों का नाम शामिल है। इस सूची में अंजली बिड़ला का भी नाम है।

क्या है दिक्कत?

ओम बिड़ला की बेटी अंजली बिड़ला

अंजली बिड़ला के चयन को लेकर सोशल मीडिया पर एक फूहड़ किस्म की बहस चल रही है। यह आरोप लगाया जा रहा है कि चूंकि अंजली बिड़ला लोकसभा अध्यक्ष की बेटी हैं इसलिए उनका चयन पहली ही बार में हो गया। अंजली बिड़ला का उनके पिता ओम बिड़ला के साथ फोटो लगाकर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है। कुछ लोग इसे सत्ता का फायदा उठाना कह रहे हैं। तो वहीं जो लोग भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा से वाकई परिचित हैं उनका कहना है कि इसमें कोई धांधली नहीं हुई है। अंजली बिड़ला का चयन सवालों के घेरे से बाहर है। यह गलत अवधारणा है कि बड़े घर और नामचीन पिता की लड़की ऐसी परीक्षाओं ने सफल नहीं हो सकती। जानकार कह रहे हैं कि अब कितनी भी कठिन परीक्षा पास करने के लिए कोल्हू के बैल की तरह मेहनत की नहीं बल्कि चालाकी से पढ़ाई करने और जागरूक रहने की जरूरत है। माने स्मार्ट पढ़ाई-लिखाई।

Related Articles

Leave a Comment