Latest News
Home ताजा खबर काशी विश्वनाथ का दुर्लभ अक्षय वट गिरा, कंपनी पर आरोप, अनहोनी की आशंका!

काशी विश्वनाथ का दुर्लभ अक्षय वट गिरा, कंपनी पर आरोप, अनहोनी की आशंका!

by Khabartakmedia

Kahi Vishwanath Temple. वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में एक वृक्ष गिर गया। यह गिरा हुआ वृक्ष अक्षय वट था। जो कि अचानक बुधवार की सुबह गिर गया। अक्षय वट के गिरने पर मंदिर परिसर में गुस्से का माहौल बन गया। क्योंकि अक्षय वट कोई साधारण वृक्ष नहीं था। अक्षय वट को पौराणिक महत्व वाला वृक्ष बताया जाता है। मंदिर परिसर के आसपास रहने वाले लोगों ने विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का निर्माण कर रही पीएसपी कंपनी पर आरोप लगाया है। आरोप मंदिर प्रशासन पर भी लगा है। लोगों का कहना है कि पीएसपी कंपनी और मंदिर प्रशासन की लापरवाहियों की वजह से ये पौराणिक अक्षय वट गिर गया।

अक्षय वट के गिरने की घटना पर मंदिर के महंत परिवार ने रोष प्रकट किया है। महंत परिवार ने कहा है कि यह किसी “अनिष्ट” की संकेत है। महंत परिवार ने इस मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर अपना विरोध जताने की बात कही है। अक्षय वट के गिरने की सूचना पर महंत परिवार ने धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी को फोन करनी चाही। लेकिन बात नहीं हो सकी।

संरक्षण का मिला था आश्वासन:

मंदि‍र के महंत बच्चा पाठक ने बताया कि “शुरू में ही महंत परिवार ने अधिकारियों को अवगत कराया था कि वृक्ष और अंजनी पुत्र के विशाल विग्रह को संरक्षित और सुरक्षित रखते हुए ही कार्य किया जाए। अधिकारियों ने आश्वासन भी दिया था कि इन्‍हें सुरक्षित और संरक्षित किया जाएगा। लेकिन निर्माण कर रही पीएसपी कम्पनी और मंदिर प्रशासन की लापरवाही से वृक्ष संरक्षित नहीं किया गया और बुधवार की सुबह विशाल अक्षयवट वृक्ष ढह गया।”

गौरतलब है कि काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ धाम कॉरिडोर निर्माण का कार्य चल रहा है। जिसके दायरे अक्षय वट और सैकड़ों छोटे बड़े ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व वाले मंदिर आए हैं। जब प्रोजेक्ट शुरू हुआ तो यह कहा गया था कि इन मंदिरों को पूरी संरक्षित किया जाएगा। लेकिन महंत परिवार और स्थानीय लोगों को लगता है कि कॉरिडोर बनाने वाली कंपनी और मंदिर प्रशासन इन बातों को अनदेखा कर रहा है।

Related Articles

Leave a Comment