Latest News
Home कोरोना वायरस कोविड ने ध्वस्त किए सारे रिकॉर्ड, फिर मिले एक लाख से ज्यादा मरीज

कोविड ने ध्वस्त किए सारे रिकॉर्ड, फिर मिले एक लाख से ज्यादा मरीज

by Khabartakmedia

भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण बेहद ख़तरनाक रूप अख्तियार कर चुका है। कोरोना संक्रमण ने अपने पहले लहर को मात दे दिया है। कोविड के फैलने की रफ्तार डरावनी हो चुकी है। इस वायरस के आंकड़े एक दिन में लाख पार कर जाने में जरा भी संकोच नहीं कर रहे हैं। सबसे चिंता की बात है सक्रिय मामलों की संख्या में भयावह उछाल।

गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी कोविड-19 की रिपोर्ट काफी भारी है। पिछले चौबीस घंटे में भारत में 1,26,789 कोरोना के नए मरीज निकले हैं। बता दें कि गत बुधवार को ये आंकड़ा 1.15 लाख था। लेकिन आज इसमें बड़ी वृद्धि दर्ज की गई है। हर रोज संक्रमण के आंकड़े नए रिकॉर्ड दर्ज कर रहे हैं। बता दें कि इस एक दिन में 685 लोगों की मौत भी हो गई है। जबकि 59,258 लोग अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए हैं।

सक्रिय मामले बढ़ाएंगे खतरा:

सक्रिय मामलों की तादाद अब दस लाख की ओर चल पड़ी है। अगर इसी तरह की रिपोर्ट शुक्रवार को भी आती है, तो ये दस लाख को भी पार कर जाएगी। फिलहाल देशभर में 9,10,319 सक्रिय कोरोना मरीज हैं। हर राज्य अपनी तरह से इस ख़तरे से निपटने की कोशिश कर रहा है। केंद्र सरकार की ओर से भी कई दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि ये अलग बात है कि मास्क लगाने और दो गज दूरी जैसे नियमों की धज्जियां खुद गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ही उड़ा रहे हैं। भारत सरकार के दो शीर्ष नेता पश्चिम बंगाल में लाखों की भीड़ के साथ चुनावी रैलियां और रोड शो करने में लगे हैं। लेकिन वहां कोविड प्रोटोकॉल की कोई फिक्र नहीं है।

वैक्सीन को लेकर भी अब स्थिति गंभीर होने लगी है। भारत सरकार सहायता करने के फेर में दूसरे देशों को वैक्सीन भेज रही है। लेकिन अब भारत में ही वैक्सीन की कमी होने लगी है। महाराष्ट्र के कुछ अस्पतालों में आज टीकाकरण इसलिए रोक दी गई है क्योंकि वैक्सीन ही खत्म हो गई है। कहा गया है कि जब दुबारा वैक्सीन की खेप आएगी तो लोगों को टीका लगाया जाएगा।

(सोहित मिश्रा एनडीटीवी से जुड़े पत्रकार हैं)

अब देखना होगा कि भारत सरकार कोविड के वैक्सीन को लेकर क्या रणनीति अपनाती है। क्योंकि कई विशेषज्ञों की राय में कोरोना से लड़ने का सबसे असरदार उपाय यही है कि हर किसी को टीका लगाई जाए। क्योंकि “दो गज की दूरी और मास्क है जरूरी”  अब सिर्फ कहनाम में ही दिख रही है।

Related Articles

Leave a Comment