Latest News
Home राजनीति राम मंदिर घोटाला: AAP नेता संजय सिंह ने मोहन भागवत को लिखी चिट्ठी, ट्रस्ट को बताया भ्रष्टाचारी लेकिन BJP पर चुप्पी!

राम मंदिर घोटाला: AAP नेता संजय सिंह ने मोहन भागवत को लिखी चिट्ठी, ट्रस्ट को बताया भ्रष्टाचारी लेकिन BJP पर चुप्पी!

by
AAP Leader Sanjay Singh

राम मंदिर निर्माण में हुए तथाकथित घोटाले का मामला अब एक सीढ़ी ऊपर जा चुका है। घोटाले का आरोप लगाने वाले आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने इसे अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दरवाजे तक पहुंचा दिया है। संजय सिंह इस मुद्दे को लेकर आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत से मिलने वाले हैं। संजय सिंह ने शनिवार यानी आज एक ट्वीट कर यह जानकारी दी है।

संजय सिंह ने अपनी ट्वीट में लिखा है कि “BJP वालों और ट्रस्ट के लोगों की चंदा चोरी बताने के लिए संघ प्रमुख श्री मोहन भागवत जी से मांगा समय, उपलब्ध कराऊंगा सारे साक्ष्य।”

संजय सिंह ने आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत को एक चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में उन्होंने मोहन भागवत से मिलने के लिए समय मांगा है। संजय सिंह ने अपने इस पत्र में लिखा है कि “आपको ज्ञात होगा कि राम मंदिर ट्रस्ट में जमीन खरीददारी से संबंधित बहुत बड़ा घोटाला हुआ है। मैं आपसे मिलकर इस पूरे घोटाले को विस्तार से आपके संज्ञान में लाना चाहता हूं।”

RSS के सरसंघचालक मोहन भागवत (फाइल फोटो)

आप नेता संजय सिंह ने मोहन भागवत को लिखा है कि ट्रस्ट के लोगों द्वारा की गई इस घोटाले से दुनियाभर के हिंदुओं की भावना आहत हुई है। उन्होंने लिखा है कि लोगों ने अपने खून पसीने की कमाई मंदिर निर्माण के लिए दान किया। लेकिन भ्रष्टाचारियों ने दलाली करके अपनी जेब भर ली है।

नहीं किया भाजपा का जिक्र:

संजय सिंह की इस चिट्ठी में एक गौर करने वाली बात है। इस लंबी चिट्ठी में कहीं भी उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (BJP) का नाम नहीं लिया है। चिट्ठी में राम मंदिर निर्माण में घोटाले का आरोप लगाते हुए संजय सिंह ने ट्रस्ट के लोगों को भ्रष्टाचारी और दलाली खाने वाला बताया है। लेकिन एक बार भी भाजपा का नाम नहीं लिखा है।

जबकि अपनी इस चिट्ठी की फोटो ट्वीट करते हुए संजय सिंह ने BJP का जिक्र किया है। ये इतनी भी सामान्य नहीं है। इस बात के कई मायने निकाले जा सकते हैं। इस मसले पर संजय सिंह ने कई प्रेस कांफ्रेंस भी किए हैं। हर प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने भाजपा पर सवाल उठाए हैं। लेकिन मोहन भागवत को लिखी चिट्ठी में संजय सिंह भाजपा का नाम लेने से बचते दिखाई दे रहे हैं।

Related Articles

Leave a Comment